MP News : वरिष्ठ BJP नेता कैलाश सारंग की तबियत बिगड़ी, एयर एंबुलेंस से मुंबई भेजा

कैलाश नारायण सारंग (Kailash Sarang) की तबीयत अचानक बिगड़ गई है, उन्हें आनन फानन में एयर एंबुलेंस से मुंबई (Mumbai) ले जाया गया है। भाजपा के कई नेताओं ने उनके स्वास्थ के हालचाल लिए और जल्द स्वस्थ होने की कामना की है।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश उपचुनाव (Madhya Pradesh by-election) की सियासी हलचल के बीच बड़ी खबर सामने आ रही है। BJP के कद्दावर नेता और शिवराज सरकार में कैबिनेट मंत्री विश्वास सारंग (Minister Vishwas Sarang) के पिता कैलाश नारायण सारंग (Kailash Sarang) की तबीयत अचानक बिगड़ गई है, उन्हें आनन फानन में एयर एंबुलेंस से मुंबई (Mumbai) ले जाया गया है। भाजपा के कई नेताओं ने उनके स्वास्थ के हालचाल लिए और जल्द स्वस्थ होने की कामना की है।

बीते महिनों भी कैलाश सारंग की तबीयत अचानक बिगड़ गई थी , जिसके बाद उन्हें भोपाल के निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। वे भाजपा के पूर्व सांसद हैं। बीमारी की वजह से वे पहले भी कई बार अस्पताल में भर्ती हो चुके हैं। 3 साल पहले भी उनकी हालत बिगड़ने पर उन्हें हेलीकॉप्टर से दिल्ली के मेदांता अस्पताल ले जाया गया था।

पूर्व मंत्री सुरेन्द्र पटवा ने ट्वीट कर लिखा है कि भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं मंत्री विश्वास सारंग जी के पिताजी एवं हमारे मार्गदर्शक आदरणीय श्री कैलाश सारंग जी के अस्वस्थ होने का समाचार मिला है। मैं ईश्वर से कामना करता हूं कि उन्हें शीघ्र स्वास्थ्य लाभ प्रदान करें।

वही भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय (Kailash Vijayvargiya) ने लिखा है कि विधायक एवं मंत्री श्री विश्वास सांरग जी के पिताश्री एवं मेरे मार्गदर्शक, मध्यप्रदेश भाजपा के आधार स्तंभ श्री कैलाश सारंग जी के अस्वस्थ होने का समाचार मिला आज उन्हें एयर एंबुलेंस से मुंबई भेजा गया है। बाबा महाकाल से उनके शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

कैलाश नारायण सारंग के बारे में

  • कैलाश नारायण सारंग मीसाबंदी भी रह चुके हैं।
  • नरेंद्र मोदी पर ‘नरेंद्र से नरेंद्र’ शीर्षक से किताब लिख चुके हैं कैलाश सारंग।
  • वर्तमान में सारंग को मध्य प्रदेश में शिवराज खेमे का भरोसेमंद नेता माना जाता है।
  • अटल बिहारी वाजपेयी के साथ भारतीय जनसंघ में काफी काम किया।
  • 1970 में कैलाश नारायण सबसे सक्रिय नेता माने जाते थे।
  • भोपाल स्थित सोमवारा में जनसंघ के प्रांतीय कार्यालय में ही कुशाभाऊ ठाकरे के साथ सपरिवार रहते थे।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here