सीएम शिवराज को भाया कमलनाथ का मॉडल प्लान, बिना बदलाव किए दी मंजूरी

इसके साथ ही विभाग के अफसरों का कहना है कि अगले 10 वर्षों के लिए अप्रैल 2021 से लागू करने की तैयारी की जा रही है। वही राजपत्र में इसके प्रकाशन के लिए नया नक्शा भी जारी किया गया।

shivraj-kamalnath

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (madhya pradesh) की सत्ता में वापस आए शिवराज सरकार (shivraj government) लगातार कमलनाथ (kamalnath) की योजना को पलटते नजर आते रहे हैं लेकिन इस बार शिवराज सरकार को कमलनाथ का एक मॉडल प्लान(model plan) पसंद आ गया। जिसके बाद मंत्रालय (ministry) ने कमलनाथ के मास्टर प्लान को सहमति दे दी है।

दरअसल कमलनाथ सरकार में छिंदवाड़ा (chhindwada) के लिए मास्टर प्लान तैयार किया गया था। जिसमें 27 गांवों को शामिल करने का प्रस्ताव तैयार किया गया था। लेकिन इसी बीच कमलनाथ सरकार गिर गई। वहीं अब एक बार फिर सत्ता में वापस लौटी शिवराज सरकार ने इस प्रस्ताव को बिना बदलाव किए मंजूरी दे दी है।

Read More: मंत्रिमंडल विस्तार की अटकलों पर मुख्यमंत्री ने लगाया विराम, कही ये बड़ी बात

इस मामले में नगरीय विकास एवं आवास विभाग ने राजपत्र में प्रकाशन कर 9 दिसंबर तक दावे, आपत्ति और सुझाव मांगे हैं। इसके साथ ही विभाग के अफसरों का कहना है कि अगले 10 वर्षों के लिए अप्रैल 2021 से लागू करने की तैयारी की जा रही है। वही राजपत्र में इसके प्रकाशन के लिए नया नक्शा भी जारी किया गया।

गौरतलब हो कि विधानसभा चुनाव 2018 मैं जिद कर प्रदेश में कमलनाथ सरकार द्वारा छिंदवाड़ा मॉडल तैयार किया था। कहा भी जाता है कि कमलनाथ सरकार में सभी विभागों नहीं छिंदवाड़ा जिले को प्राथमिकता दी थी। अब इस मामले में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कमलनाथ के इस फैसले को बिना बदलाव किए मंजूरी दे दी है। छिंदवाड़ा नगर निगम के गठन के बाद उसमें 27 गांव शामिल किए थे। इसके बाद कमलनाथ सरकार ने 27 को जोड़ने की योजना बनाई थी। माना जा रहा है कि छिंदवाड़ा मास्टर प्लान में शहर के 54 गांवों को निवेश क्षेत्र में शामिल किया जाएगा।