PM मोदी ने दिया किसानों को क्रिसमस का तोहफा, CM शिवराज ने की बड़ी घोषणा

MP

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। देशभर के किसान आंदोलन (farmer protest) के बीच अटल जयंती (atal jayanti) पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (primeminister narendra modi) वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग (video conferencing) के जरिए किसानों से चर्चा की। इसके साथ ही साथ पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत 9 करोड़ से अधिक लाभार्थी किसान को वित्तीय लाभ की अगली किस्त भी सिंगल क्लिक के माध्यम से जारी क। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी किसानों से उनकी समस्याओं एवं सुझाव का भी अवलोकन किया। वहीँ इससे पहले प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि हितलाभ वितरण कार्यक्रम के प्रारंभ में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कन्या पूजन किया।

दरअसल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 25 दिसंबर यानी अटल जयंती के दिन दोपहर 12:00 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए किसान सम्मान निधि की पांचवी किस्त सिंगल क्लिक के माध्यम से जारी की। इसी दौरान पीएम मोदी ने कहा कि आज देश के 9 करोड़ से ज्यादा किसान परिवारों के बैंक खाते में सीधे, एक क्लिक पर 18 हज़ार करोड़ रुपए जमा हुए हैं। जब से ये योजना शुरू हुई है। तब से 1 लाख 10 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा किसानों के खाते में पहुंच चुके हैं।

इसके साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि मुझे आज इस बात का अफसोस है कि मेरे पश्चिम बंगाल के 70 लाख से अधिक किसान भाई-बहनों को इसका लाभ नहीं मिल पाया है। बंगाल के 23 लाख से अधिक किसान इस योजना का लाभ लेने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर चुके हैं लेकिन राज्य सरकार ने वेरिफिकेशन की प्रक्रिया को इतने लंबे समय से रोक रखा है। पीएम मोदी ने कहा कि देश के किसान को सिंचाई की पर्याप्त सुविधा मिले, इसके लिए हम माइक्रो इरिगेशन को प्रोत्साहित कर रहे हैं। किसान को उसकी उपज की उचित कीमत मिले, इसके लिए हमने लागत का डेढ़ गुना एमएसपी देने का काम किया।

पीएम मोदी ने कहा कि देश की जनता ने विपक्ष के दलों के नेताओं को नकार दिया है। वे छोटे-मोटे इवेंट करके अपनी राजनीतिक रोटियाँ सेंकने का काम कर रहे हैं। सारा देश यह देख रहा है। स्वार्थ की राजनीति करने वाले दल जनता के सामने बेनकाब हो गये हैं। ऐसे लोग खुद को राजनीतिक रूप से जिंदा रखने के लिए जड़ी-बूटी ढूंढ रहे हैं। देश का किसान अब ऐसे लोगों को पहचान गया है। अब ये भ्रमित नहीं कर सकेंगे। पीएम मोदी ने कहा कि केरल में आज APMC नहीं है, मंडियाँ नहीं हैं। जिन्होंने 70 साल तक राज किया, वे केरल के किसानों के लिए आंदोलन क्यों नहीं करते? ये लोग कुतर्क देकर झूठे आरोप लगाकर अपने स्वार्थ के लिए किसानों को गुमराह कर रहे हैं।

Read More: जबलपुर निगमायुक्त की दो टूक- अगर ऐसा नहीं किया तो कटेगा सहायक निरीक्षकों का वेतन

किसानों पर बोले सीएम शिवराज

मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) होशंगाबाद जिले के बाबई में आयोजित होने वाले कार्यक्रम में किसान को संबोधित किया। बाबई से सीएम शिवराज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में भी शामिल हुए। किसानों को सम्बोधित करते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि राजस्व प्रकरण दर्ज कराने केवल 100 शुल्क देना होगा। पटवारी सप्ताह में सोमवार और गुरूवार आवश्यक रूप से संबंधित ग्राम पंचायत में उपस्थित रहेंगे। ऐसा ना होने पर कार्रवाई सीधे कलेक्टर पर होगी।

इसके साथ ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि अब सीधे-सीधे फसल गिरदावरी की सुविधा इस एप में दे रहे हैं। अब किसान खुद मोबाइल से यह जानकारी देगा कि उसने कौन सी फसल बोई है। पटवारी वेरिफाई कर लेगा। किसान खुद अपने मोबाइल से जानकारी देगा कि मैंने कौन-सी फसल बोई है।

फसल हानि पर बोले शिवराज

किसानों के हित में बोलते हुए सीएम शिवराज ने कहा कि नामांतरण की सूचना एसएमएस द्वारा मिलेगी। तहसलीदार को इसकी सूचना देना होगा। 1 अप्रैल 2021 से ये व्यवस्था लागू हो जाएगी। जमीन का डायवर्सन पोर्टल पर जाकर जमा करवा दो। ये घपले खत्म करना है तो टेक्नलाॅजी का इस्तेमाल करना होगा।  सीएम शिवराज ने कहा कि फसल हानि की जानकारी किसान अपने एप में डालेगा और वह सीधे आपके पास आ जाएगी कि क्या लिखा है। यदि आपको आपत्ति है तो आप दर्ज करा पाएंगे। अलग-अलग पत्रक नहीं बनाने पड़ेंगे।

सीएम शिवराज ने कहा कि मध्यप्रदेश में किसान कानूनों को सही ढंग से जनता को समझाने के लिए सभी 313 ब्लॉक में प्रशिक्षण शिविर लगाएंगे, ताकि ढंग से किसानों को समझाया जाए। किसान कानून किसान भाइयों के हित में हैं और उनकी समृद्धि के लिए मील का पत्थर साबित होंगे।हम एक फॉर्मेट बना रहे हैं, जिसमें कांट्रैक्ट फार्मिंग करने वाले किसान और व्यापारी को भरना होगा। एक कॉपी एसडीएम के पास भी जमा होगी, ताकि कोई व्यापारी बेईमानी न कर सके।

कांग्रेस सरकार पर निशाना

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि पिछले 8 महीनों में 82 हज़ार करोड़ रुपये से अधिक की राशि किसानों के खातों में डाल चुका हूँ। जब कांग्रेस की सरकार थी तो एक रुपया भी किसानों को नहीं मिला। सीएम शिवराज ने कहा कि  चिंता की कोई बात नहीं, आगे भी किसानों को लाभान्वित करता रहूंगा।

ज्ञात हो कि इसका फायदा देश भर के 9 लाख से अधिक लाभार्थी किसान परिवारों को होगा। इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 18 हजार करोड़ रुपए की राशि हस्तांतरित करेंगे।मध्य प्रदेश के 78 किसानों को इसका लाभ मिलेगा।गौरतलब हो कि प्रधानमंत्री किसान योजना भारत सरकार की स्कीम है। जिसके तहत किसानों को आर्थिक मदद की जाती है इस स्कीम के तहत हर हर साल किसानों के खाते में 2000 रुपए की समान किस्तों से 6000 रुपए की मदद की जाती है। इसके अलावा मध्यप्रदेश सरकार अपनी तरफ से 4000 रुपए किसानों के खाते में ट्रांसफर करती है।