नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देश में कोरोना महामारी (corona pandemic) के बीच इसकी रोकथाम के लिए सरकार द्वारा लगातार नए प्रयास किए जा रहे हैं। अब केंद्र सरकार (central government) की मुहिम तेज होती दिख रही है। इसी बीच एंटीबॉडी कॉकटेल (Antibody cocktail) दवा लांच कर दी गई है। इस मामले में रोश एंड सिपला कंपनी (Roche & Cipla Company) द्वारा बताया गया कि एंटीबॉडी कॉकटेल का पहला बैच मिलना शुरू हो गया जबकि दूसरा बैच जून महीने में लाया जाएगा। ज्ञात हो कि यह दवा पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) को भी दी गई थी। भारत सरकार द्वारा इसकी आपातकालीन उपयोग की अनुमति दे दी गई है।

बता दें कि केंद्र सरकार द्वारा मध्य प्रदेश को एंटीबॉडी कॉकटेल इंजेक्शन के 500 बॉइल उपलब्ध कराए गए हैं। इंजेक्शन हल्के और मध्य स्तर के गुणों को दिए जाएंगे। इसके एक डोज की कीमत 59,750 लेकिन केंद्र सरकार द्वारा ये मुफ्त में उपलब्ध कराई गई है। इसके अलावा इसकी ट्रायल रिपोर्ट सभी मेडिकल कॉलेज द्वारा केंद्र सरकार को उपलब्ध कराने की बात कही गई है। मध्य प्रदेश भोपाल मेडिकल कॉलेज को 75-75 डोज उपलब्ध कराए गए हैं जबकि जबलपुर, रीवा, गवालियर और सागर को 50 और कुछ सरकारी अस्पताल को 25 डोज उपलब्ध कराए गए।

मामले में मेदांता हॉस्पिटल के फाउंडर डॉ रमेश त्रेहान ने बताया कि एंटीबॉडी कॉकटेल दवा से 70% तक हॉस्पिटलाइजेशन (hospitalisation) का खतरा टल जाता है। मतलब साफ है कि इस दवा को लेने वाले 70% लोगों को अस्पताल जाने का खतरा टल जाता है। यह दवा कोरोना पॉजिटिव होने के 48 से 72 घंटे के अंदर ली जा सकती है। वही डॉक्टर त्रेहान ने यह भी बताया कि इस दवा को कुछ मामलों में बच्चों को भी दिया जाना संभव है।

Read More: रिटायर्ड SI की गला दबाकर हत्या, घर में हाथ पैर बंधा मिला शव

एंटीबॉडी कॉकटेल 2 दवाओं का समिश्रण है। जिसमें पहली दवा कासिरिविमाब और इम्देवीमाब है। इंदौर में दवा के 600 एमजी को मिलाकर एंटीबॉडी कॉकटेल तैयार किया गया है। यह दवा वायरस को मानवीय कोशिकाओं में जाने से रोकती है जिसे वायरस को न्यूट्रिशन नहीं मिलता है और बॉडी को प्रभावित करने से पहले ही वायरस मर या कमजोर पड़ जाते हैं।

बता दे कि इस दवा की एफिशिएंसी 70% मापी गई है। मृत्यु दर को कम करने में यह दवा बेहद असरदार है। वही एंटीबॉडी कॉकटेल के सिंगल डोज की कीमत 59,750 रुपए रखी गई है। हालांकि भारत सरकार द्वारा कंपनी से दवा की कीमत कम करने का निवेदन किया गया है।