लोकायुक्त की बड़ी कार्रवाई, उपयंत्री 50 हजार की रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार, निलंबित

इधर लोकायुक्त की टीम की कार्रवाई के बाद उपयंत्री कृष्ण मोहन त्रिपाठी को उनके पद से निलंबित कर दिया गया है।

mp

रीवा, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में भ्रष्टाचार (Corruption) के मामले सामने आ रहे हैं। जिसके बाद लोकायुक्त (lokayukt) द्वारा कार्रवाई की जा रही है। अब ऐसी ही घटना रीवा जिले से सामने आई है। जहां रीवा के लोकायुक्त के उपयंत्री को रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है।

दरअसल बीते दिनों रीवा जिले के अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय (Awadhesh Pratap Singh University) में लोकायुक्त की टीम ने दबिश दी। इस दौरान शाखा में पदस्थ उपयंत्री कृष्ण मोहन त्रिपाठी (krishna mohan tripathi) को लोकायुक्त पुलिस ने 50 हज़ार की रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है। लोकायुक्त ने बताया कि ठेकेदारों द्वारा उनके पास लोकायुक्त की शिकायत की गई। थी जिसके बाद अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय के निर्माण शाखा पदस्थ उपयंत्री पर लोकायुक्त की टीम ने कार्रवाई की।

Read More: थाना प्रभारी पर लगे गंभीर आरोप,पीड़ित किसान बोला हमारे परिजनों पर फर्जी मामला किया दर्ज

लोकायुक्त की टीम की माने तो 2016-17 में अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय के भीतर स्वर्ण जयंती पार्क का निर्माण कराया गया था। जिसकी कुल लागत 8 लाख थी। वही इस बिल की तीन किस्त को पास करा दिया गया था जबकि चौथी किस्त को पास कराने के लिए कृष्ण मोहन त्रिपाठी द्वारा पूरी रकम की 5% राशि यानी 50 हज़ार रिश्वत के तौर पर मांगी गई थी।

वह रिश्वत की मांग को लेकर ठेकेदार ने लोकायुक्त की टीम से उपयंत्री कृष्ण मोहन त्रिपाठी की शिकायत की थी। जिसके बाद लोकायुक्त की टीम ने विश्वविद्यालय में हुए पदस्थ उपयंत्री को रंगेहाथ गिरफ्तार किया गया है। इधर लोकायुक्त की टीम की कार्रवाई के बाद उपयंत्री कृष्ण मोहन त्रिपाठी को उनके पद से निलंबित कर दिया गया है।