मध्यप्रदेश उपचुनाव 2020 : चुनाव प्रचार से मायावती ने बनाई दूरियां, यह है बड़ा कारण

बिहार (Bihar By-election) के लिए चुनाव प्रचार में व्यस्त होने के कारण मध्यप्रदेश में उनकी सभाओं का कार्यक्रम ही नहीं बन सका। उनकी जगह यूपी के राज्यसभा चुनाव के प्रत्याशी रामजी गौतम (Ramji Gautam) और वरुण अंबेडकर ( Varun Ambedakar) मध्य प्रदेश में चुनावी सभाएं ले रहे हैं।

bahujan-samaj-party-bsp-chief-mayawati-will-not-contest-the-lok-sabha-elections

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। एक तरफ जहां BJP और कांग्रेस के दिग्गज नेता उपचुनाव के दंगल में मोर्चा संभाला हुए है, वही दूसरी तरफ मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की सभी 28 सीटों पर उप-चुनाव (By-election) लड़ रही बसपा (BSP) की चुनावी सभा से पार्टी प्रमुख व स्टार प्रचारक मायावती (BSP Chief And Star Promoter Mayawati) ने दूरी बना ली है।

बिहार (Bihar By-election) के लिए चुनाव प्रचार में व्यस्त होने के कारण मध्यप्रदेश में उनकी सभाओं का कार्यक्रम ही नहीं बन सका। उनकी जगह यूपी के राज्यसभा चुनाव के प्रत्याशी रामजी गौतम (Ramji Gautam) और वरुण अंबेडकर ( Varun Ambedakar) मध्य प्रदेश में चुनावी सभाएं ले रहे हैं। बाकी अन्य प्रचारक भी बिहार चुनाव (Bihar Election) में व्यस्त होने के कारण मध्यप्रदेश (MP) नहीं आ सके। स्थानीय स्टार प्रचारक की कमान संभाल रहे हैं।

ग्वालियर चंबल संभाग (Gwalior Chambal Division) में अपने प्रभाव वाली सीटों पर BSP बड़ी चुनावी सभाओं की बजाए कमरा बंद बैठकें और डोर टू डोर संपर्क में ज्यादा भरोसा कर रही है। वह अपने प्रभाव वाले क्षेत्र में समाज प्रमुखों और कार्यकर्ताओं के साथ मतदाताओं के साथ सीधी बैठक लेकर मतदाताओं को लुभा रहे हैं।

2 स्टार प्रचारक ले रहे हैं सभाएं
आखिरी दौर के प्रचार में राष्ट्रीय स्तर के प्रचारक राम जी गौतम भी उतर गए हैं। वरुण अंबेडकर और रामजी गौतम लगातार चुनावी सभाएं ले रहे हैं। दोनों नेताओं की आज शुक्रवार को भांडेर और मुरैना में बड़ी सभा होगी। इससे पहले प्रदेश अध्यक्ष रमाकांत पिप्पल (Ramakant Pippal) बुधवार को पोहरी और बमोरी में चुनावी सभाएं कर चुके हैं। बुधवार को रमाकांत के पिता बाबूलाल गौतम का कोरोना वायरस से ग्वालियर (Gwalior) में निधन हो गया है। रमाकांत शुक्रवार से चुनावी सभाएं लेंगे। पार्टी सूत्रों का कहना है कि सारा जोर सीधे मतदाताओं (Voters) से है। इसलिए हम बड़ी सभाओं के बजाए कमरा बंद बैठकें और डोर टू डोर संपर्क कर रहे हैं।