MP Board: 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा से पहले छात्रों को बड़ा झटका

ज्ञात हो कि मध्यप्रदेश में कोरोना काल की वजह से मार्च महीने से स्कूल बंद किए गए थे। इसके बाद विद्यार्थियों को ऑनलाइन माध्यम (Online Mode) से उनके कोर्स पूरे कराए गए।

mp board

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। माध्यमिक शिक्षा मंडल (Board of Secondary Education) ने बोर्ड परीक्षा से ठीक पहले 10वीं और 12वीं के विद्यार्थियों को बड़ा झटका दिया है। जिसके बाद 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षा (Board exam) की तैयारी कर रहे छात्रों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। दरअसल माध्यमिक शिक्षा मंडल ने अपनी हेल्पलाइन सुविधा (Helpline) को कुछ दिनों के लिए बंद कर दिया है। अधिकारी को कहना है कि मार्च में यह सुविधा फिर से शुरू कर दी जाएगी।

दरअसल मध्यप्रदेश में दसवीं और बारहवीं की बोर्ड परीक्षा अप्रैल महीने में शुरू होगी। ऐसे पहले माध्यमिक शिक्षा मंडल ने अपनी हेल्पलाइन सुविधा को कुछ दिनों के लिए बंद कर दिया है। हेल्पलाइन सुविधा बंद होने की वजह से छात्रों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ज्ञात हो कि मध्यप्रदेश में कोरोना काल की वजह से मार्च महीने से स्कूल बंद किए गए थे। इसके बाद विद्यार्थियों को ऑनलाइन माध्यम (Online Mode) से उनके कोर्स पूरे कराए गए।

वही परीक्षा के तनाव के बीच के विद्यार्थी हेल्पलाइन की मदद लेते थे। परीक्षा संबंधित समस्याओं को लेकर स्टूडेंट हेल्पलाइन पर शिकायत भेजते थे। वही उनका निवारण किया जाता था। अब ऐसी परिस्थिति में जहां परीक्षा अप्रैल महीने से शुरू हो गई। वहीं हेल्पलाइन सुविधा को बंद कर दिया जाना वाकई छात्रों के लिए बड़ी परेशानी का सबब है।

Read More: कम्प्यूटर बाबा ने दो साल से नहीं दिया कार का किराया, पीड़ित पहुंचा डीआईजी के पास 

हालांकि माध्यमिक शिक्षा मंडल के चेयरमैन राधेश्याम जुलानिया (Radheshyam Julania) का कहना है कि हेल्पलाइन को तत्काल बंद किया गया है लेकिन परीक्षा से पहले यह हेल्पलाइन नंबर शुरू हो जाएगी। राधेश्याम जुलानिया ने कहा कि हेल्पलाइन का मकसद ही छात्रों को परीक्षा के दौरान आने वाली समस्याओं के समाधान करना है।

वहीं इस मामले में विद्यार्थियों का कहना है कि हेल्पलाइन की मदद लेकर वह अपने समस्याओं का समाधान करते थे। इसके बाद शिक्षक विद्यार्थियों से बात कर उनकी समस्या पूछते थे। माध्यमिक शिक्षा मंडल के हेल्पलाइन पर तीन शिफ्ट में काउंसलर सुबह 8:00 से रात 8:00 बजे तक बच्चों की समस्याएं सुनते थे और उनका निराकरण करते थे। वही कोरोना काल के दौरान 10वीं और 12वीं परीक्षा के लिए कोर्स तक पूरा नहीं किया गया है। ऐसी स्थिति में हेल्पलाइन की मदद बंद कर दी गई। विद्यार्थियों का कहना है कि हेल्पलाइन बंद होने से परीक्षा की तैयारियों पर प्रभाव पड़ेगा।