इस महीने में तीसरी बार कर्ज लेने जा रही मध्य प्रदेश सरकार, ये है बड़ा कारण

मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार (BJP Government) अक्टूबर माह में तीसरी बार कर्ज लेने जा रही है। बताया जा रहा है कि कोरोना वायरस (Corona Virus) के चलते प्रदेश में चल रहे विभिन्न परियोजनाओं के संचालन के लिए राज्य सरकार को बार-बार कर्ज लेना पड़ रहा है।

शिवराज

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। एक बार फिर शिवराज सरकार (Shivraj Government) 1000 करोड़ का कर्ज (Lone) लेने जा रही है। मध्य प्रदेश की भाजपा सरकार (BJP Government) अक्टूबर माह में तीसरी बार कर्ज लेने जा रही है। बताया जा रहा है कि कोरोना वायरस (Corona Virus) के चलते प्रदेश में चल रहे विभिन्न परियोजनाओं के संचालन के लिए राज्य सरकार को बार-बार कर्ज लेना पड़ रहा है।

जानकारी के अनुसार शिवराज सरकार आज या कल 20 साल के लिए लेगी। इस कर्ज का भुगतान 21 अक्टूबर 2040 को किया जाएगा। इस कर्ज पर ब्याज की दर वह होगी 21 अप्रैल 2021 को मध्यप्रदेश में कूपन रेट प्रतिशत तय किया जाएगा। वित्त विभाग (Finance Department) रिजर्व बैंक (Reserve Bank) के जरिए e-kuber सिस्टम से यह कर्ज ले रही है।

इसके लिए बिड बुलाए जा चुके हैं, इन्हें आज खोला जाएगा। सबसे कम ब्याज दर पर कर्ज देने की इच्छुक संस्थानों से रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया के मुंबई ऑफिस के जरिए मध्य प्रदेश सरकारी यह कर्ज लेगी। जानकारी के अनुसार सरकार ने अब तक 7 माह में 10500 करोड़ का कर्ज़ ले लिया है।

Read More: खुशखबरी: 30 लाख सरकारी कर्मचारियों को मोदी सरकार का बड़ा तोहफा

बता दें कि राज्य की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है जिसके चलते हर महीने करीब 15 सौ करोड़ का कर्ज लेना पड़ रहा है। जिस वजह से सरकार ने अब तक एक लाख 16532 करोड़ का कर्ज ले चुकी है। बता दे कि सरकार ने अक्टूबर महीने में के शुरुआती दो हफ्तों में ही दो बार कर्ज ले लिया है। यह इस महीने में तीसरी बार है जब सरकार कर लेने जा रही है।

कहां से कितना कर्ज लिया

बॉन्ड्स से 7360 करोड़ केंद्र से 20938 करोड़ का कर्ज लिया गया। वित्तीय संस्थानों से 10766 करोड़ और अन्य संस्थानों से 20909 करोड़ रुपए का कर्ज लिया जा चुका है। वही नेशनल सेविंग से 26481 करोड़ रुपए का कर्ज अब तक लिया जा चुका है। अब तक कुल 2 लाख 1989 करोड रुपए का कर्ज मध्य प्रदेश सरकार पर हो गया है।

कब-कब लिया कर्ज

21 अक्टूबर को 1000 करोड़ रुपए
14 अक्टूबर को 1000 करोड़ रुपए
7 अक्टूबर को 1000 करोड़ रुपए
16 सितंबर को 1000 करोड़ रुपए
9 सितंबर को 1000 करोड़ रुपए
12 अगस्त को 1000 करोड़ रुपए
4 अगस्त को 1000 करोड़ रुपए
14 जुलाई को 1000 करोड़ रुपए
7 जुलाई को 1000 करोड रुपए
9 जून को 500 करोड़ रुपए
2 जून को 500 करोड़ रुपए
7 अप्रैल को 500 करोड रुपए

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here