मप्र सरकार का बड़ा फैसला- मंत्रियों के साथ IAS अधिकारियों को सौंपी बड़ी जिम्मेदारी

सीएम शिवराज सिंह चौहान
cabinet meeting

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) में एक्टिव कोरोना संक्रमितों (Coronavirus) की संख्या 85 हजार के करीब पहुंच गई है, ऐसे में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj Singh Chauhan) ने एक और बड़ा फैसला किया है। इसके तहत कोरोना प्रभारी मंत्रियों को एक और नई जिम्मेदारी दी गई है।मप्र सरकार कोरोना संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए सभी मंत्रियों के कोआर्डिनेशन के लिए सीनियर आईएएस (IAS) अफसर भी तैनात किए गए।

यह भी पढ़े.. Bank Holiday 2021: मई में 14 दिन बंद रहेंगे बैंक, समय से निपटा लें जरुरी काम

इस संबंध में सामान्य प्रशासन विभाग, मप्र शासन (General Administration Department, MP Government)  ने आदेश जारी किए है।IAS को बड़ी जिम्मेदारी सौंपने से पहले बुधवार को ही मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कैबिनेट के सभी मंत्रियों के साथ बैठक में कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए राज्य स्तर पर मंत्रियों को कार्य सौंपे थे।

इससे पहले आज सुबह कोरोना संक्रमण की स्थिति पर वर्चुअली उच्च स्तरीय बैठक में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कहा कि रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वालों के विरुद्ध रासुका के तहत कार्यवाही की जाए। ऑक्सीजन आपूर्ति के संबंध में गलत अफवाह उड़ाने वालों और भ्रामक जानकारियाँ देने वालों के खिलाफ भी कार्यवाही हो।

सीएम ने बताया कि ऑक्सीजन की आपूर्ति में हर संभव सहयोग मिल रहा है। कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण और इलाज की व्यवस्था के संबंध में मंत्रियों को सौंपे गए दायित्व का प्रभावी क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जाए। रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए योग से निरोग कार्यक्रम और काढ़ा वितरण जैसी गतिविधियाँ आरंभ की जा रही हैं। एक मई से 18 साल से अधिक आयु के सभी लोगों का नि:शुल्क टीकाकरण होगा।

बता दे कि कोरोना कर्फ्यू (Corona Curfew) और लॉकडाउन (Lockdown 2021) लगाने के बावजूद मप्र में एक्टिव केसों का आंकड़ा 85 हजार के करीब पहुंच गया है। पिछले 24 घंटे में 12,384 नए केस मिले है और 75 ने इलाज के दौरान दम तोड़ दिया।इधर मुख्यमंत्री ने मुख्य सचिव, डीजीपी सहित अन्य वरिष्ठ अफसरों के साथ काेरोना की स्थिति का रिव्यू करने बैठक बुलाई है, इसमें कई बड़े फैसले लिए जा सकते है।

 

 

IAS IAS