MP News: फरवरी-मार्च के बिजली बिल का भुगतान न करें उपभोक्ता, 1 अप्रैल से बदल जाएंगे नियम

कंपनी ने स्पष्ट किया है कि यदि बिजली कंपनी द्वारा कोई व्यक्ति बिजली बिल भुगतान का कैश कलेक्शन करने आता है तो उपभोक्ताओं से बिजली कंपनी का आईडी कार्ड जरूर ले या वैसे व्यक्ति का फोटो खींचकर अवश्य रखें।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश विद्युत वितरण कंपनी (Madhya Pradesh Power Distribution Company) उपभोक्ताओं को बड़ी राहत देने के लिए कुछ बड़े बदलाव कर रही है। दरअसल 1 अप्रैल से कंपनी अपने कैश काउंटर (cas counter) बंद करने जा रही है। जिसके बाद बिजली उपभोक्ताओं (electricity consumer) को ऑनलाइन बिल भुगतान (online bill payment) की सुविधा दी जाएगी। इसके लिए कई तरह के विकल्प कंपनी ने उपलब्ध कराए हैं।

दरअसल मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा 1 अप्रैल से कैश काउंटर बंद करने का निर्णय लिया गया है। इसके बदले वक्ताओं को कंपनी अन्य विकल्प उपलब्ध कराने पर विचार कर रही है। हालांकि इससे पहले चल रहे कुछ विकल्प जैसे एमपी ऑनलाइन, कॉमन सर्विस सेंटर, एटीपी मशीन, कंपनी के पोर्टल आदि अथवा मोबाइल ऐप विकल्पों द्वारा बिजली बिल का भुगतान किया जा सकेगा।

Read More: युवाओं के लिए रोजगार को लेकर मंत्री का बड़ा बयान

इसके साथ ही कंपनी द्वारा कहा गया है कि फरवरी मार्च महीने में मीटर रीडिंग को बिजली बिल भुगतान के लिए अधिकृत नहीं किया गया है। इसलिए बिजली उपभोक्ता इन दो महीनों के बिजली बिल का भुगतान मीटर रीडर को नहीं करें। वहीं कंपनी ने स्पष्ट किया है कि यदि बिजली कंपनी द्वारा कोई व्यक्ति बिजली बिल भुगतान का कैश कलेक्शन करने आता है तो उपभोक्ताओं से बिजली कंपनी का आईडी कार्ड जरूर ले या वैसे व्यक्ति का फोटो खींचकर अवश्य रखें।

बता दें कि मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी द्वारा उपभोक्ताओं के बिजली समस्याओं को सुलझाने के लिए नियम ऑनलाइन किए जा रहे हैं। ऑनलाइन भुगतान के माध्यम से उम्मीदवारों को लगातार बिजली बिल भुगतान में आ रही समस्याओं का समाधान तत्काल मिलेगा। इसके साथ ही ऑनलाइन भुगतान पर 5 से 20 रुपए तक की छूट उपभोक्ताओं को दी जाएगी। इतना ही नहीं उपभोक्ताओं के समय की बचत भी होगी। इसके कारण उन्हें बिजली ऑफिस नहीं जाना पड़ेगा। साथ ही ऑनलाइन भुगतान किसी भी समय कहीं से भी किया जा सकेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here