रेल रोको आंदोलन: मप्र में दिखा प्रदर्शन का असर, रेलवे और प्रशासन की बड़ी तैयारी

जबलपुर सहित आसपास के स्टेशनों पर तैनात है आरपीएफ और जीआरपी

रेल रोको आंदोलन

जबलपुर, संदीप कुमार।  कृषि कानून बिल (farm bill) के विरोध में करीब 80 दिनों से देश की राजधानी में आंदोलन (strike) चल रहा है। इस बीच कई बार किसान (farmers) और केंद्र सरकार (central government) की वार्ता भी हुई पर यह वार्ता पूरी तरह से विफल रही। इधर अब किसानो ने केंद्र सरकार के खिलाफ रेल रोको आंदोलन करने की ठानी है। जिसका असर मध्यप्रदेश में भी कुछ हद तक देखा जा रहा है, पश्चिम मध्य रेलवे ने भी रेल रोको आंदोलन को लेकर अपनी तैयारी कर ली है।

जबलपुर और आसपास के स्टेशनों में आरपीएफ और जीआरपी हुई तैनात

किसी भी तरह से किसान रेल रोको आंदोलन को सफल ना बनाएं इसके लिए जीआरपी (GRP) और आरपीएफ (RPF) पुलिस स्टेशनों में तैनात की गई है। इसके अलावा स्टेशन के आउटर पर भी जीआरपी ने निगरानी बनाकर रखी हुई है। जबलपुर स्टेशन में भी आज सुबह से ही आरपीएफ और जीआरपी के जवान तैनात हैं। इसके अलावा स्टेशन के अंदर आने जाने वाले गेटो को भी बंद कर दिया गया है सिर्फ मुख्य द्वार से ही यात्रियों को प्रवेश दिया जा रहा है।

Read More: Road Accident: फिल्मी स्टाइल में पलटी बोलेरो, लोगों को आई गंभीर चोटें, Video Viral

किसी भी कीमत में प्रदर्शनकारी नहीं घुस सकेंगे स्टेशन के अंदर

किसानों के रेल रोको आंदोलन को लेकर जीआरपी और आरपीएफ का बल स्टेशन के अंदर और बाहर तैनात है। इसके अलावा लगातार रेलवे ट्रैक पर भी यह पुलिस के जवान सघन चेकिंग कर रहे हैं। पुलिस का मानना है कि किसी भी कीमत में रेल रोको आंदोलन को सफल नहीं होने दिया जाएगा। साथ ही अगर कोई प्रदर्शनकारी स्टेशन के भीतर घुसने की कोशिश करता है तो फिर उसके खिलाफ वैज्ञानिक कार्यवाही भी की जाएगी।

जबलपुर सहित आसपास के स्टेशनों पर तैनात है आरपीएफ और जीआरपी

जबलपुर मुख्य रेलवे स्टेशन सहित सिहोरा अधारताल मदन महल गोसलपुर सहित अन्य स्टेशनों में आरपीएफ और जीआरपी के जवान तैनात हैं। किसी भी तरह की अप्रिय घटना होने पर तुरंत ही वरिष्ठ अधिकारियों को इसकी सूचना दी जाएगी। इसके साथ ही आरपीएफ कमांडेंट अरुण द्विवेदी भी कंट्रोल रूम से इस रेल रोको आंदोलन पर नजर बनाए हुए हैं।