MP School: पीटीएम के साथ शुरू होगी स्कूल, गाइडलाइन जारी, इन निर्देशों का करना होगा पालन

निरीक्षणकर्ता प्रतिदिन 5 विद्यालय से वीडियो कॉल (video call) के माध्यम से निरीक्षण कर विद्यार्थी और टीचर की फीडबैक (feedback) लेंगे। वहीं वीडियो की स्क्रीनशॉट विमर्श पर भी अपलोड करनी होगी।

MP News

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश सरकार (Madhya pradesh Government) ने 10वीं एवं 12वीं कक्षा के लिए स्कूल खोलने (School Reopen) की इजाजत दे दी है। हालांकि अभिभावकों का राज्य शासन के इस फैसले पर विरोध देखने को मिल रहा है। इसी बीच लोक शिक्षण संचालनालय (Directorate of public education) ने सभी सरकारी स्कूलों के लिए दिशानिर्देश जारी कर दी है। स्कूल में आने वाले छात्रों सहित शिक्षण संस्थान के स्टाफ को इन दिशा निर्देशों का पालन करना होगा।

दरअसल लोक शिक्षण संचालनालय के आयुक्त जयश्री कियावत ने इस संबंध में प्रदेश के सभी कलेक्टर जिला शिक्षा अधिकारी सहायक आयुक्त सहित सभी स्कूलों के प्राचार्य को आदेश जारी किए हैं। लोक शिक्षा संचालनालय ने सभी सरकारी स्कूल के लिए दिशानिर्देश जारी करते हुए तत्काल प्रभाव से 10वीं एवं 12वीं की कक्षा नियमित रूप से संचालित करने की बात कही है। वहीं कक्षा शुरू होते ही सबसे पहले शुक्रवार को पैरंट टीचर मीटिंग (Parent-teacher meeting) रखी जाएगी। जिनमें बच्चों के अभिभावकों का शामिल होना आवश्यक है। मीटिंग में नहीं आने वाले पालक ऑनलाइन माध्यम से भी प्राचार्य से बातचीत कर सकते हैं।

Read More: दोहरा हत्याकांड: पुलिसकर्मी की पत्नी सहित हत्या , घटना के बाद से बेटी लापता, मचा हड़कंप  

स्कूलों को शिक्षा विभाग के निर्देश द्वारा जारी s.o.p. का पालन करना होगा। इसके साथ ही एजुकेशन पोर्टल (education portal) पर विद्यार्थियों और शिक्षकों की उपस्थिति की जानकारी दर्ज करानी होगी। इसके अलावा जिला शिक्षा अधिकारी, सहायक संचालक सहित सहायक जिला परियोजना समन्वयक नियमित रूप से स्कूलों की मॉनिटरिंग (Monitoring) करेंगे। साथ ही निरीक्षणकर्ता प्रतिदिन 5 विद्यालय से वीडियो कॉल (video call) के माध्यम से निरीक्षण कर विद्यार्थी और टीचर की फीडबैक (feedback) लेंगे। वहीं वीडियो की स्क्रीनशॉट विमर्श पर भी अपलोड करनी होगी।

बच्चों के लिए निर्देश

18 दिसंबर को सभी विद्यालय में पैरंट टीचर मीटिंग आयोजित की जाएगी। कक्षा के अनुसार अभिभावकों को आमंत्रित किया जाएगा। इसके अलावा कक्षा 9वी एवं 11वी के लिए विद्यार्थियों का नामांकन एवं अध्यापन संबंधी कार्य प्राचार्य की अनुमति से ही किया जाएगा। इसके साथ ही जिन विद्यार्थियों को अभिभावकों से पहले से स्कूल जाने की सहमति प्राप्त हो चुकी है उन्हें सहमति लेना जरूरी नहीं होगा। वही विद्यालय में प्रार्थना सामूहिक गतिविधि और खेल इत्यादि पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेंगे। साथ ही भोजन भी छात्र अपने कक्ष में बैठकर ही करेंगे।