अब राज्य सूचना आयुक्त ने बताया स्वास्थ्य मंत्री को ‘मासूम शिकार’

Vijay Manohar Tiwari
Vijay Manohar Tiwari

भोपाल डेस्क रिपोर्ट।मध्य प्रदेश के सूचना आयुक्त और वरिष्ठ पत्रकार के निशाने पर अब प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री हैं उन्होंने एक ट्वीट कर मंत्री की तुलना मासूम शिकार से की है प्रदेश के एक वरिष्ठ आईएएस पर टिप्पणी करने के कारण सूचना आयुक्त का एक ट्वीट पिछले दिनों की चर्चा में था

ग्वालियर मे नही थम रही कोरोना की लहर,मंगलवार को 1200 पार आकड़ा

राज्य सूचना आयुक्त विजय मनोहर तिवारी ने ट्वीट कर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री डॉ प्रभु राम चौधरी को तथाकथित लाचारी और बेबसी को बताया है| रामनवमी के दिन किए गए इस ट्वीट में विजय मनोहर तिवारी ने लिखा है”हे प्रभु!एक मासूम शिकार! किसे नहीं पता कि असली ‘प्रभु’ और असली ‘राम’ कौन है?और किसे “चौधरी” बनाया हुआ है?वे ‘इलेक्ट’ नहीं ‘सिलेक्ट’ होकर आए हैं।”

भोपाल : हमीदिया अस्पताल से रेमडेसिवीर इंजेक्शन की चोरी का सच

अपने ट्वीट के साथ विजय मनोहर तिवारी ने स्वास्थ्य मंत्री से संबंधित एक दैनिक समाचार पत्र में छपी एक खबर को भी टैग किया है। जिसमें लिखा है कि “प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी के चलते पिछले दिनों कितनी मौतें हुई है और स्वास्थ्य मंत्री जी आप इन लाइनों को सांस रोक पढिये तब आपको एहसास होगा कि क्या स्थिति है।” अखबार में यह भी लिखा है कि “इन खबरों को सांस रोक कर पढ़ने से 20 सेकंड में ही आपकी सांस फूल गई होगी। ऑक्सीजन लेवल 85-90 तक गिरा होगा। प्रभु राम चौधरी जी ,आप तो डॉक्टर हैं सोचिए उनको जिनको कोरोना है। जिनका ऑक्सीजन लेवल 40-50 तक ही है और उन्हें घंटों तक ऑक्सीजन नहीं मिल रही है।” इस अखबार ने मंत्री से स्वास्थ्य आग्रह किया है “कुछ तो करिए मरीजों को सांस तो दीजीए।”

इंदौर : कोरोना कर्फ्यू का उल्लंघन करने वालों की होगी गिरफ्तारी

अपनी बेबाक और निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए देशभर में जाने-माने विजय मनोहर तिवारी ने स्वास्थ्य मंत्री से पर ट्वीट करने से कुछ दिन पहले स्वास्थ्य महकमे की जिम्मेदारी संभाल रहे एक आला आईएएस अधिकारी पर भी कटाक्ष किया था। ट्वीट कर उन्होंने आईएएस की तुलना हकीम लुकमान के भाई से करते हुए कहा था कि बचपन में उर्स मे बिछड़ गया था और आईएएस बन गया था। अब कोरोना काल मे बिना गारंटी का इलाज कर रहा है। ना इंजेक्शन की गारंटी ना ऑक्सीजन की फिर भी वह बेहया अल्लाह की आंखों का नूर है ।
स्वास्थ्य मंत्री के लिए किया गया सूचना आयुक्त का यह ट्वीट चर्चाओं में है और जमकर वायरल हो रहा है। राज्य के एक महत्वपूर्ण पद का दायित्व संभाल रहे यह सूचना आयुक्त का यह ट्वीट प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं की हकीकत बयां कर रहा है।