MP Politics: अब इस दिग्गज की बीजेपी में हुई घर वापसी, कांग्रेस में हड़कंप

इससे पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के भोपाल आने के बाद अपने समर्थकों के साथ सिंधिया के स्वागत के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री सरताज सिंह उनसे मिलने पहुंचे थे।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश की राजनीति (MP Politics) में अब भी दलबदल का सिलसिला जारी है। प्रदेश में लगातार जन नेता कांग्रेस (congress) से टूटते नजर आ रहे हैं। अब इस दल बदल की सियासत में एक और नाम शामिल हो गया है। आज से 25 महीने पहले विधानसभा चुनाव 2018 (Assembly elections 2018) के दौरान बीजेपी (BJP) का दामन छोड़ कांग्रेस का हाथ थामने वाले सरताज सिंह (Sartaj Singh) की भाजपा में घर वापसी हुई है। सरताज सिंह, सीएम शिवराज की मौजूदगी में पार्टी में शामिल हुए।

दरअसल मध्य प्रदेश के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सरताज सिंह (Former Union Minister Sartaj Singh) 25 महीने बाद एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी (Bharatiya Janata Party) में शामिल हो गए हैं। राजधानी में किसान सम्मेलन के दौरान सीएम शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में पूर्व केंद्रीय मंत्री सरताज सिंह ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की। इससे पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) के भोपाल आने के बाद अपने समर्थकों के साथ सिंधिया के स्वागत के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री सरताज सिंह उनसे मिलने पहुंचे थे।

Read More: MP Politics : संन्यास पर बोले नरोत्तम मिश्रा- यह कमलनाथ के दिल की आवाज या दिल्ली की

साथ ही ज्योतिरादित्य सिंधिया के काफिले के साथ सरताज सिंह मुख्यमंत्री आवास (CM House) भी पहुंचे थे। जहां उनके घर वापसी का मसौदा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan), प्रदेश अध्यक्ष बीडी शर्मा (BJP State President VD Sharma), ज्योतिरादित्य सिंधिया के समक्ष सीएम हाउस में तय हुआ था। इतना ही नहीं पूर्व केंद्रीय मंत्री सरताज सिंह के साथ होशंगाबाद से सिंधिया समर्थक राजेंद्र ठाकुर, मुकेश अग्निहोत्री और धर्मेंद्र राठौर ने भी भाजपा की सदस्यता ग्रहण की।

गौरतलब हो कि विधानसभा के लिए 28 नवंबर से होने वाले चुनाव से ठीक पहले भारतीय जनता पार्टी ने करारा झटका देते हुए अपने वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री सरताज सिंह को टिकट नहीं दिया था। जिससे नाराज सरदार सिंह फूट-फूटकर रो पड़े थे और चंद ही मिनटों के बाद वह बीजेपी छोड़ कांग्रेस में शामिल हो गए थे।

सरताज सिंह को टिकट नहीं देने का कारण बीजेपी ने उनके 75 साल की उम्र पार करने की वजह को बताया था। इतना ही नहीं कांग्रेस में शामिल होते ही सरताज सिंह को पार्टी ने तुरंत ही होशंगाबाद विधानसभा (Hoshangabad Assembly) क्षेत्र से विधान सभा चुनाव 2018 के लिए अपने प्रत्याशी नियुक्त कर दिया था। बता दें कि होशंगाबाद जिले सिवनी मालवा से भाजपा से सरताज सिंह दो बार विधायक बने है। वही एक बार फिर पूर्व केंद्रीय मंत्री सरताज सिंह घर वापसी को तैयार हैं।