Rajgarh News

राजगढ़, डेस्क रिपोर्ट। शनिवार को मध्यप्रदेश के राजगढ़ में कलेक्टर (Collector in Rajgarh) द्वारा पेंडिंग मामलों (Pending cases) की मासिक समीक्षा बैठक की गई। इस दौरान कई पेंडिंग कार्य पूरे नहीं किए जाने और मामलों को समय सीमा के अंदर निराकरण नहीं करने पर कलेक्टर द्वारा नायब तहसीलदारों (Naib Tehsildars) के वेतनवृद्धि (pay raise) रोकने के निर्देश दिए गए। इतना ही नहीं बैठक में कलेक्टर द्वारा सभी अधिकारियों को प्राथमिकता से काम करने के निर्देश दिए गए हैं।

दरअसल शनिवार को राजस्व अधिकारियों की मासिक बैठक कलेक्टर नीरज कुमार सिंह (neeraj kumar singh) द्वारा ली गई। इस दौरान सभी नायब तहसीलदार और तहसीलदार के न्यायालय में पेंडिंग मामलों की समीक्षा की गई। समीक्षा के दौरान कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने पाया कि कई मामले ऐसे हैं। जिसका समय सीमा के अंदर निराकरण किया गया है। जिसके बाद कलेक्टर नीरज कुमार सिंह द्वारा लखनवास नायब तहसीलदार कुलदीप जाधव (kuldeep jadav) और नायब तहसीलदार शंभू सिंह मीणा (Shambhu Singh Meena) के एक वेतन वृद्धि रोकने के निर्देश दिए गए हैं।

Read More: Corona Alert: मध्य प्रदेश में लगातार दूसरे दिन 600 से ज़्यादा कोरोना संक्रमित

कलेक्टर ने कहा कि समय सीमा के अंदर मामले का निराकरण करने और समय पर पटवारी रिपोर्ट नहीं भेजने पर यह कार्रवाई की गई है। इतना ही नहीं जिला कलेक्टर नीरज कुमार सिंह ने नया तहसीलदारों को जल्द से जल्द मामले को निपटाने और लंबित मामलों का निराकरण कर जल्द से जल्द इसे डिस्पोज करने के निर्देश दिए हैं।

इस दौरान अधिकारी कर्मचारी को निर्देश देते हुए कलेक्टर ने कहा कि हम जनता की सेवा के लिए यहां बैठे हैं और उनका काम प्राथमिकता से करना चाहिए। इस दौरान कलेक्टर ने गेहूं उपार्जन, सीएम किसान कल्याण की समीक्षा बैठक की और बिना विलंब लोगों को सुविधा देने के निर्देश अधिकारी कर्मचारियों को दिए हैं। कलेक्टर ने सख्ती दिखाते हुए कहा कि जिस अधिकारी कर्मचारी के कार्यों में लापरवाही देखी जाएगी। उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।