राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा का भाजपा सरकार से सवाल – क्या सिर्फ भाजपाई ही हिंदुस्तानी

राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने कहा कि कानून को किसान हितैषी बताकर आनन-फानन में लागू किया गया। कोरोना काल में कृषि छोड़कर हर सेक्टर में मंदी देखी गई थी। ऐसे में मोदी सरकार ने देश की जीडीपी संभाल रहे कृषि क्षेत्र को भी परेशान कर दिया।

विवेक तन्खा

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  देश में नई कृषि बिल (Farm Bill) को लेकर किसानों (farmers) का गुस्सा अपने उबाल पर है। ऐसे में आज किसान अपनी मांगों को लेकर केंद्रीय कृषि मंत्री से मुलाकात करेंगे। इसी बीच किसान आंदोलन की लौ अब मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में पहुंच गई है। जिसके बाद राज्यसभा सांसद और कांग्रेस के दिग्गज नेता विवेक तन्खा (vivek tankha) ने भाजपा सरकार (BJP government) पर निशाना साधा है। विवेक तन्खा ने कहा कि विरोध करने वाले को भाजपा सरकार खालिस्तानी, पाकिस्तानी और गद्दार बना देती है। क्या सिर्फ भाजपाई ही इस देश में हिंदुस्तानी रह गए?

राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने कहा है कि देश के मेहनती किसान जब अपने उचित मांग को लेकर आगे बढ़ रहे हैं तो उन्हें खालिस्तानी बताया जा रहा है। इतना ही नहीं विवेक तन्खा ने यह भी कहा कि जिस तरह से कृषि बिल को जबरन कानून बनाया गया। वह कहीं से किसान हित में नहीं लग रहा है। राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने कहा कि कानून को किसान हितैषी बताकर आनन-फानन में लागू किया गया। कोरोना काल में कृषि छोड़कर हर सेक्टर में मंदी देखी गई थी। ऐसे में मोदी सरकार (Modi Government) ने देश की जीडीपी (GDP) संभाल रहे कृषि क्षेत्र को भी परेशान कर दिया।

Read More: मप्र की जनता के नाम सीएम शिवराज का सन्देश- किसान, कोरोना, धर्मान्तरण को लेकर कही बड़ी बात

इसके साथ ही देश में पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों पर भाजपा सरकार को घेरते हुए राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने कहा कि यूपीए शासनकाल के दौरान 40 रुपए पेट्रोल के दाम के लिए सड़क पर उतरने वाले बीजेपी नेता आज 90 रुपए दाम पर चुप क्यों है। विवेक तन्खा ने कहा कि पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दामों पर लोगों की नाराजगी भी सामने आ रही है। मोदी सरकार भारत की इकोनामी को अमेरिका की फ्री इकोनामी की तरफ ले जाना चाहती है जबकि उन्हें समझना होगा कि 80 फ़ीसदी करी वाले देश में महंगाई का बोझ भयावह होगा।

इसी के साथ राज्यसभा सांसद और कांग्रेस के दिग्गज नेता विवेक तन्खा ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस विषय में सोचना चाहिए और जल्द से जल्द इनके हितों की बात करनी चाहिए।