SDO का बड़ा फर्जीवाड़ा उजागर, सांसद के नकली लेटर पैड छपवाएं, रिश्वत देने की कोशिश

पुलिस ने आरोपी के खिलाफ 417, 419, 420, 465 और 459 के तहत मामला दर्ज किया है।

राजगढ़, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में फर्जीवाड़ा का एक बड़ा मामला सामने आया है। जहां लघु वनोपज संघ के अध्यक्ष (President of Minor Forest Produce Association) बनने के लिए एसडीओ (SDO) ने सांसद के नकली लेटर पैड (letter pad) छपवा लिए। वही मामले के खुलासे के बाद फर्जीवाड़ा के आरोप में वन विभाग के एसडीओ ने सांसद (MP) को रिश्वत (bribe) देने का भी प्रयास किया। जिसके बाद एसडीओ के खिलाफ पुलिस ने एफआईआर (FIR) दर्ज किया है।

बता दें कि मामला प्रदेश के राजगढ़ जिले का है। जहां लघु वनोपज संघ अध्यक्ष बनने के लिए सीधी उप वन मंडल में पदस्थ एसडीओ एसपी सिंह गहरवार (SP Singh Gaharwar) द्वारा सांसद रीति पाठक (Riti Pathak) के नकली लेटर पैड छपवाए गए। वही सांसद के लेटर पैड का उपयोग करके 10 मार्च को वन विभाग के प्रमुख सचिव को एक पत्र भेजा गया। जिसमें सांसद के द्वारा एसपी सिंह अहिरवार को लघु वनोपज का अध्यक्ष बनाए जाने की अनुशंसा की गई थी।

मामले का खुलासा तब हुआ जब प्रमुख सचिव कार्यालय से सांसद रीति पाठक के पास फोन आए। वही प्रमुख सचिव कार्यालय से कहा गया कि आपके पत्र पर कार्रवाई की जा रही है। जिस पर सांसद द्वारा असहमति जताई गई और कहा गया कि उनकी तरफ से कोई भी पत्र नहीं लिखा गया है। सांसद रीति पाठक द्वारा प्रमुख सचिव कार्यालय से पत्र के प्रति की मांग भी की गई। जिसके फर्जीवाड़े की जानकारी सांसद ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) को भी उपलब्ध कराई।

Read More: दिग्विजय के निशाने पर मध्य प्रदेश के IAS-IPS , ट्वीट कर लगाए आरोप

फर्जीवाड़ा के उजागर होने पर वन विभाग के SDO एसपी सिंह गहरवार द्वारा सांसद रीति पाठक को रिश्वत देने का भी प्रयास किया गया। सांसद के घर पहुंचकर एसडीओ एसपी सिंह गहरवार ने मिठाई के डिब्बे और लिफाफे में कुछ नकद रखे थे। मामले के बाद सांसद रीति पाठक द्वारा अपने निजी सचिव हीरालाल यादव से कोतवाली पुलिस को आवेदन देकर कार्रवाई की मांग की गई। जिसमें पुलिस ने आरोपी के खिलाफ 417, 419, 420, 465 और 459 के तहत मामला दर्ज किया है।

पुलिस की तरफ से बताया गया है के वन विभाग के एसडीओ द्वारा लघु वनोपज संघ का अध्यक्ष बनने के लिए इस तरह का फर्जीवाड़ा किया गया है और सांसद के दौरान अनुशंसा के लिए उनके नकली लेटर पैड छपाए गए हैं। बता दे कि वन विभाग के SDO एसपी सिंह गहरवार का विवादों से पुराना नाता रहा है। उन पर DFO वायपी सिंह से मारपीट अभद्रता के भी आरोप लगे हैं।वहीं उन्हें दो साल पहले भी मंत्रालय द्वारा निलंबित भी किया जा चुका है।