Gwalior News: वरिष्ठ अधिकारियों ने लिए कोरोना की रोकथाम से जुड़े कड़े फैसले

जिले की सीमाओं पर फिलहाल कम से कम पाँच नाके शुरू करने के निर्देश राजस्व विभाग एवं पुलिस के अधिकारियों को दिए ।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। कोरोना (Corona) की दूसरी लहर अत्यंत गंभीर है। इसलिये सभी इंसीडेंट कमाण्डर, पुलिस एवं नगर निगम व स्वास्थ्य विभाग का अमला पहले की तरह आपसी समन्वय बनाकर कोरोना की रोकथाम के लिये काम करे। साथ ही संक्रमित मरीजों के बेहतर इलाज की व्यवस्था एवं संदिग्ध लोगों की जाँच भी कराए। इस आशय के निर्देश कोरोना (Corona) की रोकथाम के उपायों को लागू करने को लेकर हुई अहम बैठक में दिए गए। कोरोना (Corona) के मरीजों के बेहतर इलाज के लिये अस्पताल प्रबंधन, शहर की सीमाओं, रेलवे स्टेशन व एयरपोर्ट इत्यादि जगहों पर थर्मल स्क्रीनिंग की व्यवस्था व कंटेनमेंट जोन की स्थापना सहित कोरोना (Corona) की रोकथाम के लिये जरूरी उपायों को लागू करने पर विचार मंथन हुआ।

ये भी पढ़ें – भोपाल, इंदौर और जबलपुर में जारी रहेगा हर संडे लॉकडाउन, गृह विभाग ने ट्वीट कर दी जानकारी

बुधवार को ग्वालियर नगर निगम के बाल भवन में आयोजित हुई बैठक में संभाग आयुक्त आशीष सक्सेना, पुलिस महानिरीक्षक अविनाश शर्मा, कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह, पुलिस अधीक्षक अमित सांघी, नगर निगम आयुक्त शिवम वर्मा एवं जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी किशोर कान्याल, स्मार्ट सिटी सीईओ श्रीमती जयति सिंह, अपर कलेक्टर आशीष तिवारी,  टी एन सिंह व रिंकेश वैश्य, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मनीष शर्मा, जिले के अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, एसडीएम व तहसीलदार सहित अन्य इंसीडेंट कमाण्डर, नगर पुलिस अधीक्षक, निजी अस्पतालों के प्रबंधक एवं कोरोना की रोकथाम से जुड़े अन्य विभागों के अधिकारी मौजूद थे।

मॉल व भीड़भाड़ वाले बाजारों पर रखें विशेष  नजर 

संभाग आयुक्त आशीष सक्सेना ने कहा कि कोरोना गाइडलाइन (Corona Guideline) का पालन कराने के लिये रोको-टोको अभियान पर विशेष ध्यान दें। साथ ही जो लोग मास्क खरीदने में सक्षम नहीं हैं उन्हें मास्क मुहैया कराए जाएँ। उन्होंने बैठक में मौजूद प्राइवेट अस्पतालों के प्रबंधकों से कहा कि आर्थिक रूप से सक्षम कोरोना मरीजों के लिये आईसोलेशन सेंटर भी तैयार करें। पुलिस महानिरीक्षक अविनाश शर्मा ने कहा कि लोगों के परिवहन में लगे वाहनों में भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कराएँ और लोगों को मास्क लगाने के लिये प्रेरित करें। उन्होंने मॉल व भीड़भाड़ वाले बाजारों में कोरोना गाइडलाइन के पालन पर विशेष बल दिया।

Gwalior News: वरिष्ठ अधिकारियों ने लिए कोरोना की रोकथाम से जुड़े कड़े फैसले

हॉट स्पॉट से आने वाले हर व्यक्ति की सीमा पर ही होगी जाँच

कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में निर्देश दिए कि शहर को जोड़ने वाली सभी सीमाओं (बॉर्डर) पर नाके स्थापित करें। नाकों पर हर यात्री की थर्मल स्क्रीनिंग की जाए। साथ ही जिन लोगों में कोरोना जैसे लक्षण हों उनकी जाँच कराएँ। उन्होंने कहा कि कोरोना से बुरी तरह प्रभावित महाराष्ट्र व पंजाब सहित प्रदेश के इंदौर, भोपाल व जबलपुर से आने वाले यात्रियों पर विशेष नजर रखें। इन प्रांतों व जिलों से आने वाले यात्रियों के निवास पर कोविड-19 के तहत क्वारेंटाइन का पर्चा जरूर चिपकाएँ। श्री सिंह ने जिले की सीमाओं पर फिलहाल कम से कम पाँच नाके शुरू करने के निर्देश राजस्व विभाग एवं पुलिस के अधिकारियों को दिए ।

Gwalior News: वरिष्ठ अधिकारियों ने लिए कोरोना की रोकथाम से जुड़े कड़े फैसले

कंटेनमेंट जोन भी बनेंगे

कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने बैठक में निर्देश दिए कि जिन घरों में कोरोना संक्रमित पाए जा रहे हैं उन घरों में कोविड-19 मरीज पाए जाने का पर्चा चिपकाएँ। साथ ही बेरीकेटिंग कर छोटे-छोटे अर्थात माइक्रो कंटेनमेंट जोन बनाएँ। जिस गली में अधिक संख्या में कोरोना मरीज मिलें उस पूरी गली को कंटेनमेंट जोन घोषित करें।

1500 बैड का तत्काल इंतजाम करने पर जोर

कोरोना संक्रमितों के बेहतर इलाज के लिये कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह ने फिलहाल विभिन्न अस्पतालों में कुल मिलाकर 1500 बैड का तत्काल इंतजाम करने पर बल दिया। इनमें से एक हजार बैड सरकारी अस्पतालों में और 500 बैड की व्यवस्था निजी अस्पतालों में कराने के निर्देश उन्होंने दिए। श्री सिंह ने यह भी निर्देश दिए कि बैड के इंतजाम के साथ-साथ चिकित्सकों एवं पैरामेडीकल स्टाफ की पर्याप्त व्यवस्था भी हर अस्पताल में रहे। उन्होंने कहा आपात स्थिति निर्मित होने पर जल्द से जल्द तीन हजार बैड की व्यवस्था हो सके। इसकी कार्ययोजना भी पहले से ही तैयार करके रखें। कोविड के लिये चिन्हित सभी अस्पतालों में आईसीयू बैड एवं ऑक्सीजन सिलेण्डर इत्यादि का भी पर्याप्त इंतजाम रहे। श्री सिंह ने जेएएच हॉस्पिटल की सुपर स्पेशिलिटी विंग में पहले की तरह कोरोना के इलाज के लिये पुख्ता इंतजाम करने पर भी विशेष बल दिया। कलेक्टर ने कहा कि जरूरत पड़ने पर कोविड सेंटर के लिये होटल भी अधिग्रहीत किए जायेंगे।

 ये भी पढ़ें – JU के कर्मचारी देखते थे अश्लील वीडियो, दो महिला कर्मचारी सहित पांच बर्खास्त, एक को नोटिस

कड़ाई से कराएँ कोरोना गाइडलाइन का पालन

बैठक में सभी इंसीडेंट कमाण्डर एवं पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए गए कि कोरोना गाइडलाइन का कड़ाई से पालन कराया जाए। कलेक्टर श्री सिंह एवं पुलिस अधीक्षक अमित सांघी ने निर्देश दिए कि इंसीडेंट कमाण्डर एवं पुलिस अधिकारी संयुक्त रूप से मास्क न लगाने वाले लोगों से जुर्माना वसूलें। सड़क मार्गों व बाजारों के साथ-साथ मास्क न लगाने वाले दुकानदारों से भी जुर्माना वसूला जाए। सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने के लिये दुकानों के आगे गोल घेरे भी बनवाए जाएँ।

मास्क न लगाने वालों को खुली जेल में भेजें

सभी इंसीडेंट कमाण्डर एवं पुलिस अधिकारियों को निर्देश दिए गए कि बिना मास्क के पकड़े गए लोगों को खुली जेल में भेजें। इसके लिये शहर में विभिन्न स्थानों पर खुली जेल चिन्हित करें। साथ ही ऐसे लोगों से साफ-सफाई सहित जैसे वॉलेन्टियर के काम भी लिए जाएँ।

यह भी दिए निर्देश 
–  सीएमएचओ को दिए निर्देश नए प्रकार के कोरोना वायरस का पता लगाने नमूने जाँच को भेजें।
– एम्बूलेंस 24 घंटे तैयार रहें। पाँच मिनट में मिले रिस्पोंस।
– जो मरीज अस्पताल जाने के लिये एम्बूलेंस की मांग करें वहाँ तत्काल पहुँचे एम्बूलेंस।
– होम आइसोलेशन में रह रहे कोरोना संक्रमितों तक नियमित रूप से दवाएँ पहुँचें।
– वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होम आइसोलेशन के मरीजों को चिकित्सकीय सलाह भी दिलाएँ।
– स्मार्ट सिटी कंट्रोल एण्ड कमाण्ड सेंटर 24 घंटे सक्रिय रहे।
– होम आईसोलेशन में रह रहे मरीजों के घर खान-पान की सामग्री पहुँचाने की व्यवस्था करें।
– कोरोना संक्रमित मरीजों के पते में वार्ड का उल्लेख जरूर हो।
– संबंधित इंसीडेंट कमाण्डर अपनी टीम को कोरोना नियंत्रण में लगाएँ।
– सभी फीवर क्लीनिक सक्रिय रहें और वहाँ नियमित रूप से कोरोना की जाँच की जाए।
– भीड़ कम करने के लिये मंडियों का किया जा सकता है विकेन्द्रीयकरण।
– जिला चिकित्सालय के सहायता केन्द्र सक्रिय रहे। मरीज को भटकना न पड़े।
– कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग पर भी सभी इंसीडेंट कमाण्डर ध्यान दें।
– मेरी होली मेरे घर को प्रोत्साहन दें। शासन द्वारा जारी गाइडलाइन के तहत ही दी जाए कार्यक्रमों को अनुमति, जिससे भीड़ जमा न हो।
– 28 मार्च को मेला समाप्त करने के आदेश हैं, इसका पालन कराएँ।
– अब हर दिन सायंकाल कंट्रोल कमाण्ड सेंटर में होगी कोरोना की समीक्षा बैठक।