कोरोना से बचाव के लिए केमिकल की जगह पानी का हुआ छिड़काव, ड्रग्स विभाग ने किया खुलासा

सोडियम हाइपो क्लोराइट (sodium hypochlorite) नामक इस केमिकल का छिड़काव कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने हेतु किया गया था।लेकिन अब ड्रग्स विभाग के खुलासे में पता चला है कि ये केमिकल नहीं बल्कि पानी था।

केमिकल

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना corona) के बढ़ते ग्राफ को ध्यान में रखते हुए कई ज़रूरी कदम उठाए गए। इसी सिलसिले में जिला अस्पतालों (district hospitals) में केमिकल (chemical)का छिड़काव भी हुआ। लेकिन केमिकल मिलावटी निकला जिसमे 98 फीसदी पानी की मात्रा पाई गई है। ड्रग्स विभाग (drugs department) की जांच में इस मिलावटी केमिकल का खुलासा हुआ।

यह भी पढ़ें… Gwalior News – रिटायर्ड अधिकारी ने अपनी ही बन्दूक से गोली मारकर की आत्महत्या

खबर है कि पिछले वर्ष 2020 में जुलाई माह में भोपाल, उज्जैन, जबलपुर, विदिशा, कटनी, शाजापुर, गुना, धार, मंडला सहित प्रदेश के ग्यारह जिला अस्पतालों में केमिकल का छिड़काव किया गया था। सोडियम हाइपो क्लोराइट (sodium hypochlorite) नामक इस केमिकल का छिड़काव कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने हेतु किया गया था।लेकिन अब ड्रग्स विभाग के खुलासे में पता चला है कि ये केमिकल नहीं बल्कि पानी था।
सेनऐजे फार्मा नामक कम्पनी से ये केमिकल खरीदा गया था। 16,800 रुपए की दर पर इस केमिकल को छिड़काव हेतु मंगाया गया था। आपको बता दें कि निजी लैब की जांच में ये केमिकल गुणवत्ता के मानकों पर खरा नहीं उतर पाया था, बावजूद इसके ये प्रदेश के कई अस्पतालों में छिड़काव हेतु सप्लाई किया गया।

यह भी पढ़ें… Indore News : नाबालिग गिरोह का पर्दाफाश, मोबाइल लूटकर हो जाते थे फरार

ड्रग्स विभाग की जांच के बाद कम्पनी और सीएमएचओ को नोटिस भेजा गया है।रिपोर्ट्स के अनुसार नोटिस का जवाब आते ही ड्रग्स विभाग द्वारा कम्पनी पर सख्त से सख्त कार्यवाही होगी।