देश की प्रमुख विपक्षी पार्टियों ने प्रधानमंत्री को लिखा सम्मिलित पत्र, जानें मुख्य 9 बिंदु

पत्र में कोरोना महामारी को apocalyptic human tragedy अर्थात कयामती मानव त्रासदी लिखा गया है। इन सभी पार्टियों ने मिलकर पत्र में 9 बिंदुओं को शामिल किया है और सरकार से इन सभी बिंदुओं पर तत्काल प्रभाव से कदम लेने की बात लिखी है।

pm modi

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देश की प्रमुख 12 विपक्षी पार्टियों (opposition parties) ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (prime minister narendra modi) को सम्मिलित पत्र (composite letter) लिखा है। इस पत्र में पीएम मोदी से कोरोना (corona) की दूसरी लहर की रोकथाम के लिए तत्काल प्रभाव से उचित कदम लेने की बात लिखी गयी है। पत्र में कोरोना महामारी को apocalyptic human tragedy अर्थात कयामती मानव त्रासदी लिखा गया है। इन सभी पार्टियों ने मिलकर पत्र में 9 बिंदुओं को शामिल किया है और सरकार से इन सभी बिंदुओं पर तत्काल प्रभाव से कदम लेने की बात लिखी है।

यह भी पढ़ें… विदिशा के कांग्रेस विधायक शशांक भार्गव पर हुई एफआईआर दर्ज

” हम लगातार आपका ध्यान मिलकर और व्यक्तिगत तौर पर भी कोरोना की रोकथाम के लिए ज़रूरी बातों पर केंद्रित करने के लिए प्रयास करते आए हैं। दुर्भाग्यवश सरकार ने या तो इन बातों पर ध्यान नहीं दिया है या फिर सिरे से नकार दिया है। ये भी बड़ा कारण है कि आज देश में कोरोना ने कयामत का रूप ले लिया है।” पत्र में ऐसा लिखा गया है।

पत्र में लिखे मुख्य 9 बिंदु:

* सभी उपलब्ध स्त्रोतों, (घरेलू और अंतरराष्ट्रीय) से वैक्सीन की खरीदी

* तत्काल मुफ्त, सार्वत्रिक और मास वैक्सीनेशन

* घरेलू वैक्सीन उत्पादन के लिए अनिवार्य लाइसेंस

* सेंट्रल विस्टा कंस्ट्रक्शन को रोककर सारा पैसा ऑक्सीजन और वैक्सीन में लगाया जाए

 

यह भी पढ़ें.. अशोकनगर : परिजनों का दावा चिता से उठकर बैठा मुर्दा, डॉक्टरों ने दोबारा किया मृत घोषित

* “बेहिसाब निजी ट्रस्ट फंड”, पीएम केयर फंड का सारा पैसा वैक्सीन खरीदने, ऑक्सीजन और मेडिकल उपकरण का बंदोबस्त करने में उपयोग किया जाए

* बेरोजगार को हर महीने ₹6000 दिया जाए

* जरूरतमंदों को मुफ्त में अनाज दिया जाए

* फार्म लॉ को वापस लिया जाए ताकि कोविड का शिकार हुए किसानों को बचाया जा सके।

बता दें कि इस पत्र में अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी और मायावती की बहुजन समाज पार्टी के अलावा सभी विपक्षी पार्टियों के प्रतिनिधियों ने हस्ताक्षर किए हैं।