Twitter ने भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के हैंडल को फिर से किया Verified

बता दे कि नाइजीरिया के राष्ट्रपति मोहम्मद बुहारी के एक ट्वीट को ट्विटर द्वारा डिलीट करने के नाइजीरिया में ट्विटर को सस्पेंड किया जा रहा है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। यूजर्स के रोष के बाद आखिरकार टि्वटर इंडिया द्वारा उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के ट्विटर हैंडल को वापस से वेरीफाई कर दिया गया है। बता दे कि Twitter ने भारत के उपराष्ट्रपति (Vice President of India) एम वेंकैया नायडू (M Venkaiah Naidu) के हैंडल से वेरिफाइड ब्लू टिक (verified blue tick) हटा दिया था। हालांकि Twitter ने अब तक नहीं बताया कि उसने भारत के उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के हैंडल से वेरिफाइड ब्लू टिक क्यों हटाया है। वहीं लोगों का कहना है कि काफी दिनों तक वेंकैया नायडू के पर्सनल सोशल हैंडल (personal social handle) से कोई ट्वीट ना होने की वजह से यह काम किया गया है।

उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के पर्सनल टि्वटर हैंडल से वेरिफाइड ब्लू टिक हटा लिया। जिससे लोगों में काफी रोष देखने को मिल रहा था। लोगो द्वारा लगातार टि्वटर इंडिया से सवाल किए जा रहे हैं। वहीं अगर ट्विटर यूजर की बात करें तो उनका कहना है कि भारत के उपराष्ट्रपति के खाते से ब्लू टिक हटाना सामान्य बात नहीं है, ट्विटर किस हद तक जा सकता है, भारत सरकार को इसे गंभीरता से लेना चाहिए।

Read More: BJP प्रवक्ता ने कहा कांग्रेस नेत्री को अनपढ़ और गवार, जवाब आया- ‘रेबीज का इंजेक्शन लगवाइए’

वहीं एक और यूजर ने कहा नाइजीरियाई राष्ट्रपति के एक ट्वीट को हटाने के बाद उन्होंने देश के 20 मिलियन उपयोगकर्ताओं में ट्विटर को निलंबित कर दिया। बता दे कि नाइजीरिया के राष्ट्रपति मोहम्मद बुहारी के एक ट्वीट को ट्विटर द्वारा डिलीट करने के नाइजीरिया में ट्विटर को सस्पेंड किया जा रहा है।

एक और यूजर ने कहा कि वरिष्ठ पत्रकार, रवीश लगभग 5 वर्षों से ट्विटर पर निष्क्रिय थे। अभी भी verified है। लेकिन कुछ कह रहे हैं कि भारत के उपराष्ट्रपति ने पिछले 10 महीनों से कुछ भी ट्वीट नहीं किया है। इसलिए, ब्लू टिक अपने आप हटा दिया गया है। कोई स्पष्टीकरण?

बीते दिनों केंद्र सरकार द्वारा तैयार IT की नीति नियमों को लेकर केंद्र सरकार और सोशल मीडिया के बीच काफी विवाद देखने को मिला था। सोशल मीडिया टीम ने कोर्ट के दरवाजे खटखटाएं थे। वहीं केंद्र सरकार द्वारा स्पष्ट कहा गया था कि भारत में रहने के लिए भारत के नीति नियम मानने अनिवार्य होंगे।

अब ऐसी स्थिति में उपराष्ट्रपति के पर्सनल हैंडल को अनवेरीफाइड करने का ट्विटर का क्या कारण सामने आता है। यह तो वक्त ही बताएगा लेकिन फिलहाल लोगों के बीच इसके लिए काफी गुस्सा देखने को मिल रहा है।

Users Review