भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश नगरीय निकाय चुनाव (Madhya Pradesh Municipal Elections) से पहले एक बार फिर कांग्रेस (congress) को बड़ा झटका लगा है। चुनाव आयोग (Election commission) ने उनकी मांग को खारिज करते हुए कहा है कि मध्य प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव में वोटिंग ईवीएम (EVM) के जरिए ही की जाएगी। वहीं इस मामले में कांग्रेस ने चुनाव आयोग पर आरोप लगाए हैं।

दरअसल मध्य प्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग ने नगरीय निकाय चुनाव में वोटिंग के लिए अधिसूचना जारी कर दी है। जिसमें साफ कहा गया है कि प्रदेश में होने वाले नगरीय निकाय चुनाव मैं वोटिंग मतपत्र के जरिए नहीं बल्कि ईवीएम के जरिए ही होगी। इस मामले में राज्य निर्वाचन आयोग का कहना है कि मतदान केंद्र में लगाए गए सभी मतदान कर्मी ईवीएम वोटिंग में ही दक्ष किए गए हैं। अब ऐसे में मतपत्र के जरिए चुनाव कराना कठिन होगा।

मध्य प्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग के इस फैसले पर कांग्रेस ने बड़ा आरोप लगाए हैं। कांग्रेस नेता जेपी धनोपिया का कहना है कि राज्य निर्वाचन आयोग ने नगरीय निकाय चुनाव में VVPAT की जगह पर ईवीएम रखने का फैसला किया है। इसका मतलब साफ है कि राज्य निर्वाचन आयोग बीजेपी (BJP) के इशारे पर काम कर रहा है। कांग्रेस नेता का कहना है कि इस मामले में जल्द वरिष्ठ नेताओं से चर्चा करके आगे की कार्रवाई की जाएगी।

Read More: सीएम शिवराज ने की समीक्षा बैठक, अधिकारियों को दिए ये निर्देश

वहीं दूसरी तरफ बीजेपी नेता रजनीश अग्रवाल (Rajneesh agarwal) ने भी कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा है। बीजेपी नेता ने कहा कि कांग्रेस को अपने पुराने दिन याद करना चाहिए। जब मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान में कांग्रेस ने ईवीएम के जरिए ही सरकार बनाई थी। बीजेपी नेता ने कहा कि हार का ठीकरा कांग्रेस ईवीएम पर फोड़ती है जबकि चुनाव जीत जाने के बाद उसे ईवीएम से कोई परेशानी नहीं होती।

बता दें कि कांग्रेस ने मध्यप्रदेश में होने वाली नगरीय निकाय चुनाव ईवीएम के इस्तेमाल की जगह मतपत्र से चुनाव कराने की मांग की थी। इसके लिए कांग्रेस ने चुनाव आयोग को पत्र भी लिखा था। जिसमें ईवीएम पर कई तरह के सवाल भी खड़े किए गए थे। अब मध्य प्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग के फैसले के बाद यह तो तय है कि मध्य प्रदेश में नगरीय निकाय चुनाव में वोटिंग ईवीएम के जरिए ही करवाई जाएगी।