विश्वास सारंग का दिग्विजय पर पलटवार- सैनिक वर्दी का मजाक उड़ाना राष्ट्रद्रोह का मामला

सारंग ने कहा सर्जिकल स्ट्राइक पर Digvijay सेना से सबूत मांगते हैं। एयर स्ट्राइक के समय सेना से सवाल करते हैं जबकि आतंकवादी के मारे जाने पर उनके लिए संवेदना प्रकट करते हैं।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MP) में दिग्विजय सिंह (Digvijay Singh) अपने बयानों के लिए जाने जाते हैं। एक बार फिर से उन्होंने एक ऐसा बयान दे दिया है, जो चर्चा का विषय बन गया है। मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने एक ट्वीट (Tweet) करके खलबली मचा दी है। दरअसल दिवाली के दिन पीएम मोदी (PM Modi) के नौशेरा में सेना के जवानों के साथ सेना की वर्दी में देखा गया। जिसके बाद से दिग्विजय सिंह ने सेना की वर्दी सहित नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) को निशाने पर ले लिया है। वहीं दिग्विजय सिंह के ट्वीट पर अब मध्य प्रदेश के मंत्री विश्वास सारंग (Visvas sarang) ने पलटवार किया है।

विश्वास सारंग ने कहा कि भारत की गरिमा को चोट पहुंचाना दिग्विजय सिंह के लिए नई बात नहीं है। सारंग ने कहा कि सेना की वर्दी को हिटलरशाही का पर्याय कहकर दिग्विजय सिंह ने सेना का अपमान किया है। सारंग ने कहा कि वह सैनिक जिस की वर्दी का हम सम्मान करते हैं, वह सैनिक जो सेना की वर्दी पहनकर भारत की सीमाओं की रक्षा करता है। उस वर्दी का मजाक उड़ाना दिग्विजय सिंह के लिए राष्ट्रद्रोह के रूप में देखा जाना चाहिए।

Read More: सोनिया गांधी से मिले कमलनाथ, MP उपचुनाव के बाद हुई पहली मुलाकात

सारंग ने कहा सर्जिकल स्ट्राइक पर Digvijay सेना से सबूत मांगते हैं। एयर स्ट्राइक के समय सेना से सवाल करते हैं जबकि आतंकवादी के मारे जाने पर उनके लिए संवेदना प्रकट करते हैं। दिग्विजय सिंह वर्दी का मजाक उड़ाएंगे। उनसे यही अपेक्षा की जा सकती है लेकिन इससे ज्यादा शर्मनाक कुछ भी नहीं है।

नौशेरा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सेना के यूनिफॉर्म पहनने पर सवाल खड़े करते हुए दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया था कि क्या कोई आम नागरिक, कोई ग़ैर सैनिक व्यक्ति सेना की यूनिफार्म पहन सकता है कि जनरल रावत यह रक्षा मंत्री इस पर स्पष्टीकरण देंगे। इसके अलावा पूर्व भाजपा नेता यशवंत सिन्हा के ट्वीट पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भी दिग्विजय सिंह ने कहा कि यशवंत सिन्हा, यह तो सिर्फ शुरुआत है।

दिग्विजय सिंह ने कहा कि प्रथम विश्व युद्ध के समय हिटलर एक कारपोरेट था और उसने खुद को जर्मन सेना का Commander-in-chief घोषित किया था। मोदी जी को संसद में अगर Second term मिला तो हैरानी नहीं होनी चाहिए कि वह संविधान को बदलकर राष्ट्रीय प्रमुख खुद को घोषित कर दे। जिसके बाद से ही पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह द्वारा किया  यह ट्वीट चर्चा का विषय बना हुआ है और इस पर कई बीजेपी नेताओं ने अब तक प्रतिक्रिया व्यक्त की है।