ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ग्वालियर चंबल (Gwalior Chambal) के लोगों को अपने परिवार का हिस्सा बताने वाले राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia) भारतीय जनता पार्टी (bjp) में आने के बाद बहुत बदल गए हैं। अब वे मंच से सिर्फ भाषण देकर अपने परिवार और जनता के बीच रिश्तों के प्रमाण नहीं देते बल्कि खुद जनता के बीच पहुंचकर इसका अहसास भी कराते हैं। सोमवार को ग्वालियर में मौजूदगी के दौरान इस बात का प्रमाण देखने को मिला।

हुआ यूँ कि सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया रविवार और सोमवार को दो दिवसीय दौरे पर ग्वालियर में रहे। दोनों दिन उनके व्यस्त कार्यक्रम थे। सोमवार को उनका मेडिकल कॉलेज (medical college) के ओल्ड ऑडिटोरियम में डॉक्टर्स के साथ इंटरेक्शन प्रोग्राम था। यहाँ से उन्हें दूसरे कार्यक्रम में जाना था फिर JAH के ट्रॉमा सेंटर का निरीक्षण करने आना था। डॉक्टर्स से इंटरेक्शन जैसे ही खत्म हुआ उन्होंने बाहर आकर साथ में मौजूद ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर (pradyuman singh tomar) से ट्रॉमा सेंटर चलने के लिए कहा।

उन्होंने वहाँ पूछा कि कितनी दूर है तो किसी समर्थक ने कहा “महाराज” वो दूर है गाड़ी ले आते हैं। इतना सुनकर सिंधिया ने साथ में ही चल रहे चैंबर ऑफ कॉमर्स के मानसेवी सचिव एवं ग्वालियर व्यापार मेला प्राधिकरण के पूर्व उपाध्यक्ष डॉ प्रवीण अग्रवाल की तरफ देखकर पूछा, बताओ कितना दूर है। डॉ प्रवीण अग्रवाल ने जवाब दिया महाराज केवल 500 मीटर होगा। इतना सुनते ही सिंधिया बोले 500 मीटर कौन सा दूर है। पैदल ही चलते हैं, फिर सड़क क्रॉस की और चल दिये पैदल ।

Read More: MP News: हाईकोर्ट ने कलेक्टर तरुण राठी को किया नोटिस जारी, यह है पूरा मामला

सिंधिया सड़क पर पैदल चलने लगे, उनके साथ उनके समर्थक भी पैदल चलने लगे। लेकिन सिंधिया ने हिदायत दी कि सड़क जाम नहीं होनी चाहिए इसलिए फुटपाथ पर चलिए। सिंधिया भी फुटपाथ पर चलने लगे। इसी दौरान उन्होंने फुटपाथ पर बैठे एक दंपति से बात की जो इलाज कराने JAH आये थे। सिंधिया ने पूछा कि कोई परेशानी तो नहीं है? दंपति ने जब इंकार किया तो सिंधिया आगे बढ़ गए। उसके बाद जब सिंधिया आगे बढे तो एक पानी की टिकिया वाले के ठेले पर रुक गए। सिंधिया ने पूछा कि कोरोना के बाद कैसा चल रहा का धंधा?

सिंधिया को अपने ठेले पर देख अचंभित रह गए ठेले वाले ने कहा “महाराज” कोरोना में सब ठप था अब धीरे धीरे ठीक हो रहा है। अब ग्राहक ठेले पर आते हैं। ठेले वाले से बात कर सिंधिया सीधे ट्रॉमा सेंटर पहुंचे उन्होंने वहाँ JAH के अधीक्षक डॉ RKS धाकड़ के साथ ट्रॉमा सेंटर का निरीक्षण किया। सिंधिया ने ट्रॉमा सेंटर में हो रहे परिवर्तन की सराहना करते हुए कहा कि यहाँ अभी और सुधार की गुंजाइश है । सिंधिया ने अपनी तरफ से कुछ सुझाव भी दिये और कहा कि इसे सबसे अच्छा ट्रॉमा सेंटर बनाना है।

जब गाड़ी छोड़ पैदल ही चल दिये "महाराज", पानी की टिकिया वाले से पूछा कैसा चल रहा व्यापार?