GST Collection: सरकारी खजाने में जमकर आया पैसा, जीएसटी संग्रह ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, जानें नए आँकड़े

GST Collection: 1 मई 2023 सोमवार को वित्तमंत्रालय ने जीएसटी कलेक्शन के नए आँकड़े जारी कर दिए हैं। अप्रैल में सरकार को गुड्ज़ और सर्विसेस् टैक्स से बंपर मुनाफा हुआ है। अप्रैल, 2023 के जीएसटी संग्रह ने कई पुराने रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। अप्रैल में कुल 1.87 लाख रुपये का जीएसटी कलेक्शन हुआ है, जिसे अब तक का सबसे बड़ा कलेक्शन बताया जा रहा है। इस साल मार्च में जीएसटी कलेक्शन 160,122 करोड़ रुपये दर्ज किया गया था। वहीं फरवरी का कलेक्शन 149,577 करोड़ रुपये और जनवरी का 157,554 करोड़ रुपये रहा।

अप्रैल, 2022 के मुकाबले इस वर्ष का कलेक्शन 19,495 करोड़ रुपये ज्यादा रहा, पिछले साल समान अवधि में सरकार को जीएसटी से 167,540 करोड़ रुपये की कमाई हुई थी। एनुअल जीएसटी कलेक्शन में सलाना आधार पर 12 फीसदी का उछाल दर्ज किया गया है। 20 अप्रैल, 2023 को जीएसटी कलेक्शन 68,228 करोड़ रहा, पहली बार एक दिन में इतना टैक्स कलेक्शन हुआ है।

सेंट्रल और स्टेट दोनों के ही जीएसटी कलेक्शन में इजाफा हुआ है। सेंट्रल जीएसटी कलेक्शन 38,400 करोड़ रुपये रहा, जो पहले 29,500 करोड़ रुपये था। वहीं स्टेट जीएसटी कलेक्शन 37,300 करोड़ रुपये से बढ़कर 47,400 करोड़ रुपये हो चुका है। इंटीग्रेटेड जीएसटी कलेक्शन में 6300 करोड़ का इजाफा हुआ है।

नए आंकड़ों के मुताबिक मार्च 2023 में ई-वे बिल जनरेशन में भी वृद्धि हुई है। 11 फीसदी की वृद्धि के साथ ई-वे बिल के आँकड़े 9 करोड़ के पार पहुँच चुके हैं। फरवरी में यह आंकड़ा 8.1 करोड़ था।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News