June New Rule 2024 : सस्ता हुआ एलपीजी गैस सिलेंडर, 1 जून से बदलने जा रहे है ये भी नियम, आपकी जेब पर कितना पड़ेगा असर? जानें यहां

हर महीने की शुरुआत से ही कुछ न कुछ नियमों में बदलाव होता है। इसका असर आम आदमी की जब पर जरूर पड़ता है। इसी क्रम में 1 जून 2024 से आधार कार्ड से लेकर एलपीजी से जुड़े से बदलाव होने जा रहे है।

New Rules From 1st June:

New Rules from 1st June 2024 : आज शनिवार से जून का महीना शुरू होने जा रहा है, ऐसे में 1 जून से कई नियमों में भी बदलाव होने वाला है। इसमें गैस सिलेंडर, डाइविंग लाइसेंस, आधार अपडेट, बैंक की छुट्टियां और आरटीओ समेत कई नियमों में बदलाव होगा, जिसका सीधा असर आपकी जेब पर होगा।आईए जानते है 1 जून 2024 से पैसों से जुड़े कौन-कौन से नियम बदल जाएंगे…

LPG सिलेंडर के दाम

  • देशभर में हर महीने की पहली तारीख को रसोई गैस के कमर्शियल और घरेलू सिलेंडरों के कीमत की समीक्षा की जाती है। हर पहली तारीख को रसोई गैस सिलेंडरकी कीमतें नए सिरे से तय की जाती हैं। हर माह की तरह 1 जून को भी एलपीजी सिलेंडर के दाम रिवाइज किए गए है।
  • लोकसभा चुनाव के नतीजों से पहले 1 जून को तेल कंपनियों ने कमर्शियल सिलेंडर के कीमत में 72 रुपए तक कटौती की है। दिल्ली में अब दाम 69.50 रुपए घटकर 1676 रुपए हो गई है,कोलकाता में 1787 रुपए हो गई, मुंबई में कॉमर्शियल सिलेंडर 69.50 रुपये घटकर 1698.50 रुपए और चेन्नई में 1840.50 रुपए का मिल रहा है। हालांकि, 14.2 KG वाले घरेलू गैस सिलेंडर की कीमतों में कोई बदलाव नहीं हुआ है।

ट्रैफिक से जुड़े नए नियम

1 जून से परिवहन से संबंधित नियमों में भी बड़ा बदलाव होने जा रहा है। जून से देश में न्यू ड्राइविंग लाइसेंस रूल्स (New Driving License Rule 2024) लागू होंगे। इस नियम के अनुसार अगर कोई नाबालिग गाड़ी चलाता हुआ पकड़ा जाता है तो उसपर 25,000 रुपये तक जुर्माना लगेगा।वही तेज स्पीड में गाड़ी चलाने पर 1000 रुपए से लेकर 2000 रुपए तक का लगेगा। बिना लाइसेंस गाड़ी चलाने पर 500 रुपये का भरना होगा। हेलमेट और सीट बेल्ट न पहनने वालों को 100-100 रुपए का जुर्माना भरना होगा।

जून में इतने दिन बंद रहेंगे बैंक

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) हर महीने के लिए बैंक हॉलिडे लिस्ट (Bank Holiday List) जारी करता है। आरबीआई ने जून के लिए भी बैंक हॉलिडे लिस्ट जारी कर दी है, इसके तहत जून में 12 दिन बैंक बंद रहेंगे। बैंक हॉलिडे में रविवार, दूसरे-चौथे शनिवार की छुट्टी भी शामिल है। इसके अलावा जून में रज संक्रांति और ईद-उल-अजहा के मौके पर भी बैंक बंद रहेंगे। लोकसभा चुनाव के सातवें चरण के मतदान के कारण जून महीने की पहली तारीख को भी कई राज्यों के कुछ क्षेत्रों में बैंक शाखाएं बंद रहेंगी।

14 जून तक मुफ्त में कर सकेंगे आधार अपडेट

  • UIDAI ने ऑनलाइन फ्री में आधार अपडेट करने की सुविधा दी है लेकिन ऑफलाइन आधार कार्ड अपडेट करने पर चार्ज का भुगतान होगा। UIDAI ने फ्री में आधार अपडेट करने की समयसीमा को 14 जून 2024 तक बढ़ा दी है। अब आप 14 जून तक ऑनलाइन फ्री में आधार अपडेट कर सकते हैं।
  • 14 जून के बाद  आधार कार्ड अपडेट करवाते हैं तो  कुछ शुल्क चुकाना पड़ सकता है। आधार कार्ड को घर बैठे या आधार कार्ड सेंटर पर जाकर भी अपडेट करवा सकते हैं, इसके लिए आपको 50 रुपये शुल्क के तौर पर चुकाना होगा। यूआईडीएआई पोर्टल पर जाकर खुद से आधार कार्ड अपडेट करने पर फिलहाल कोई शुल्क नहीं चुकाना पड़ा है।

ड्राइविंग लाइसेंस के नियम में बदलाव

  • ड्राइविंग लाइसेंस से जुड़े नए नियम में भी 1 जून से लागू होंगे। नए नियम के तहत, अब ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने आपको सरकारी रीजनल ट्रांसपोर्ट ऑफिस (RTO) में टेस्ट देने की जरूरत पड़ेगी। इसके लिए निजी संस्था भी ड्राइविंग टेस्ट करने और सर्टिफिकेट जारी करने के लिए पूरी तरह से अधिकृत होगी।
  • इसके लिए सरकार उन संस्थाओं को भी सर्टिफिकेट प्रदान करेगी, जो ड्राइविंग सिखाते हैं। ऐसे में आरटीओ जाकर टेस्ट देने की जरूरत नहीं पड़ेगी।प्राइवेट ड्राइविंग ट्रेनिंग सेंटर के लिए कम से कम 1 एकड़ और 4 व्हीलर के लिए 2 एकड़ भूमि , ट्रेनर्स के पास कम से कम हाई स्कूल डिप्लोमा और 5 साल का ड्राइविंग ,हल्के वाहन की ट्रेनिंग 4 हफ्तों तक पूरी हो जानी चाहिए।
  • इसमें थियोरी सेक्शन को 8 घंटे और प्रैक्टिकल सेक्शन 21 घंटे का होगा।भारी वाहनों की ट्रेनिंग 38 घंटे की होगी। थ्योरी सेक्शन में 8 घंटे की ट्रेनिंग और 31 घंटे की प्रैक्टिकल ट्रेनिंग होगी। ये ट्रेनिंग 6 हफ्तों के भीतर पूरी होगी।
  • ट्रेनिंग की फीस के लिए लर्नर लाइसेंस के लिए 200 रुपए, लर्नर लाइसेंस रिन्यूअल के लिए 200 रुपए, अंतरराष्ट्रीय लाइसेंस के लिए 1000 रुपए और स्थायी लाइसेंस के लिए 200 रुपए तय किए गए है।

About Author
Pooja Khodani

Pooja Khodani

खबर वह होती है जिसे कोई दबाना चाहता है। बाकी सब विज्ञापन है। मकसद तय करना दम की बात है। मायने यह रखता है कि हम क्या छापते हैं और क्या नहीं छापते। "कलम भी हूँ और कलमकार भी हूँ। खबरों के छपने का आधार भी हूँ।। मैं इस व्यवस्था की भागीदार भी हूँ। इसे बदलने की एक तलबगार भी हूँ।। दिवानी ही नहीं हूँ, दिमागदार भी हूँ। झूठे पर प्रहार, सच्चे की यार भी हूं।।" (पत्रकारिता में 8 वर्षों से सक्रिय, इलेक्ट्रानिक से लेकर डिजिटल मीडिया तक का अनुभव, सीखने की लालसा के साथ राजनैतिक खबरों पर पैनी नजर)