बड़ा झटका: PNB ने बदले नियम, इन सर्विस के बढ़े चार्ज, 15 जनवरी से बढ़ेगा बोझ

इसके तहत मेट्रो सिटीज में तिमाही औसत बैलेंस (QAB) रखने की सीमा को मौजूदा 5,000 रुपए से बढ़ाकर 10,000 रुपए कर दिया गया है।

PNB Punjab National Bank

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। नया साल 2022 लगते ही बैंकों में तरह तरह के परिवर्तन होना शुरु हो गए है।एक तरफ 1 फरवरी 2022 से एसबीआई बैंक आईएमपीएस ट्रांजेक्शन (IMPS Transaction) में एक नया स्लैब जोड़ने जा रहा है है, जो 2 लाख से 5 लाख रुपये का है।वही दूसरी तरफ पंजाब नेशनल बैंक (Punjab National Bank) ने भी कई नियमों में बदलाव कर दिया है, जिसका 15 जनवरी 2022 के बाद ग्राहकों पर बोझ पड़ेगा।

यह भी पढ़े.. 14 जनवरी को बदलेगी सूर्य की चाल, चमकेगी इन 4 राशियों की किस्मत, क्या आप है इनमें शामिल?

नए साल में पंजाब नेशनल बैंक (PNB) अपने ग्राहकों को बड़ा झटका देने जा रहा है। PNB ने सामान्य बैंकिंग परिचालन से संबंधित विभिन्न सेवाओं के लिए लगने वाले शुल्क में बढ़ोतरी कर दी है।इसके तहत मेट्रो सिटीज में तिमाही औसत बैलेंस (QAB) रखने की सीमा को मौजूदा 5,000 रुपए से बढ़ाकर 10,000 रुपए कर दिया गया है। ग्रामीण और अर्ध-शहरी इलाकों में मिनिमम बैलेंस नहीं रखने पर चार्ज 200 रुपए से बढ़ाकर 400 रुपए प्रति तिमाही कर दिया गया है।

इसके अलावा शहरी और मेट्रो एरिया के लिए 300 रुपए से बढ़ाकर 600 रुपए कर दिया गया है। वही एक्‍स्‍ट्रा लार्ज साइज के लॉकर को छोड़कर सभी एरिया और सभी प्रकार के लॉकर शुल्क 500 रुपए की बढ़ोतरी की गई है।बढ़ी हुई दरें 15 जनवरी 2022 से लागू होंगी। इससे पहले, प्रति वर्ष लॉकर विज़िट की संख्या 15 निःशुल्क विज़िट निर्धारित की गई थी, इसके बाद की विजिट पर 100 रुपए प्रति विजिट शुल्क का निर्धारण है।

यह भी पढ़े.. MP Weather: इन जिलों में आज बारिश की चेतावनी, ओलावृष्टि-बिजली गिरने का भी अलर्ट

वही छोटे साइज के लॉकर का चार्ज ग्रामीण इलाके में पहले 1 हजार रुपए से बढ़कर 1,250 रुपए होगा। जबकि अर्बन इलाके में यह 1,500 से बढ़कर 2 हजार रुपए हो गया है।मध्यम साइज के लॉकर का चार्ज ग्रामीण इलाके में 2 हजार से बढ़कर 2,500 और अर्बन इलाके में 3 हजार से बढ़कर 3,500 रुपए हो गया है। बड़े लॉकर का चार्ज ग्रामीण इलाके में 2500 से 3 हजार और अर्बन में 5 हजार से 5,500 रुपए हो गया। एकदम बड़े साइज के लॉकर का चार्ज ग्रामीण और अर्बन दोनों के लिए 10 हजार रुपए है, जिसमें कोई बदलाव नहीं किया गया है।