CBSE Board: कक्षा 5वीं से 8वीं के लिए होगा योग्यता-आधारित मूल्यांकन का आयोजन, लर्निंग में होगा सुधार, स्कूलों को नोटिस जारी

सीबीएसई ने SAFAL के आयोजन को लेकर सभी स्कूलों को नोटिस जारी किया है। साथ ही संचालन को लेकर दिशा-निर्देश का भी जारी किया है।

Manisha Kumari Pandey
Published on -
cbse news

CBSE Board: कक्षा 5वीं से 8वीं के छात्रों के लिए बड़ी अपडेट सामने आई है। केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (Central Board Of Secondary Education) जुलाई में योग्यता आधारित मूल्यांकन “SAFAL” शुरू करने जा रहा है। इस मूल्यांकन का उद्देश्य का शिक्षा की गुणवत्ता को बढ़ाना है। बोर्ड ने स्ट्रक्चर असेस्मेंट ऑफ अनालीज़िंग लर्निंगग के पंजीकरण को लेकर सभी सम्बद्ध स्कूलों के प्रमुख को नोटिस भी जारी किया है। साथ ही मूल्यांकन को लेकर दिशा-निर्देश भी जारी किए हैं।

क्या है SAFAL?

बता दें कि SAFAL मूल्यांकन की शुरुआत राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के तहत सीबीएसई ने शुरू की थी। यह एक निदानात्मक मूल्यांकन है, जिसका उद्देश्य शिक्षार्थियों द्वारा दक्षताओं की उपलब्धि का आकलन करना है। यह कोई प्रतियोगिता या प्रमाणन परीक्षा नहीं है। यह उस क्षेत्र का निदान करता है, जहां स्कूल में गुणवत्तापूर्ण शिक्षण लर्निंग के लिए अधिक कोशिश की जरूरत है।  यह एक योग्यता आधारित मूल्यांकन है। जिसके लिए किसी प्रकार के स्पेशल क्लास लेने या कोई खास तैयारी की जरूरत नहीं पड़ती। इसके लिए तो बस योग्यता केंद्रित और लर्निंग केंद्रित कक्षा शिक्षण की पर्याप्त है।

सार्वजनिक नहीं होगी मूल्यांकन की रिपोर्ट 

इस असेस्मेंट से पंजीकृत सभी स्कूलों को केवल स्कूल लेवल दक्षता रिपोर्ट प्रदान की जाएगी। विद्यालय सिर्फ खुद की ही रिपोर्ट का अवलोकन कर पाएंगे। उन्हें किसी अन्य स्कूल की रिपोर्ट देखने की अनुमति नहीं देता। मूल्यांकन की रिपोर्ट सार्वजनिक भी नहीं की जाएगा। मूल्यांकन के रिजल्ट की प्राइवसी सुनिश्चित की जाएगी। विद्यालयों को परिणाम और प्रतिपुष्ट से ज्यादा से ज्यादा लाभ हो इस बात की कोशिश की जाएगी।

स्कूलों को निर्देश जारी 

सीबीएसई ने स्कूलों को इस मूल्यांकन को केवल शिक्षक-सीखने की पद्धतियों के मूल्यांकन का एक माध्यम समझने की सलाह दी है। साथ ही विद्यालय प्राधिकारियों को बोर्ड द्वारा समय-समय पर उपलब्ध कराए गए मूल्यांकन के लिए मानक संचालन प्रक्रियाओं और दिशानिर्देशों के मुताबिक स्कूलों में SAFAL असेस्मेंट का आयोजन ईमानदारी और निष्ठा के साथ आयोजित करने निर्देश भी दिया है। बोर्ड ने कहा, “इस बात का विशेष ध्यान दिया जाए कि मूल्यांकन के संचालन के दौरान तकनीकी फुट-प्रिन्ट रिकॉर्ड पर होंगे और डेटा का विश्लेषण किया जाएगा।”

एक्टिविटी का शेड्यूल जारी

बोर्ड ने मूल्यांकन से रजिस्टर्ड स्कूलों के लिए एक्टिविटी का शेड्यूल भी जारी किया है। हिन्दी और इंग्लिश मीडियम के लिए गतिविधियों की सूची भी अलग होगी।

 

cbse news
cbse news
https://cbseacademic.nic.in/web_material/Circulars/2024/49_Circular_2024.pdf


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News