CBSE Board: सीबीएसई ने शुरू किया नेशनल लेवल साइंस चैलेंज, कक्षा 8वीं से 10वीं के छात्र ले सकते हैं भाग, नोटिस जारी, जानें डिटेल

सीबीएसई ने साइंस चैलेंज की शुरुआत की है। जिसका आयोजन दो चरणों में अप्रैल से मई तक होगा। 8वीं से 10वीं के छात्र भाग ले सकते हैं।

Manisha Kumari Pandey
Published on -
cbse science challenge

CBSE Science Challenge: छात्रों के लिए विज्ञान बेहद महत्वपूर्ण होता है। इस सब्जेक्ट के जरिए छात्र सोचने और समस्याओं को बेहतर तरीके से समाधान करने में सक्षम होते हैं। विज्ञान से जुड़ी जिज्ञासा, पूछताछ और हाई ऑर्डर थिंकिंग के लिए एक पहल से रूप में साइंस चैलेंज शुरू किया है। इस प्रोग्राम में कक्षा 8वीं से लेकर 10वीं के छात्र हिस्सा ले सकते हैं। इस संबंध में केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने सभी संबद्ध स्कूलों को सर्कुलर जारी किया है।

कैसा होगा साइंस चैलेंज का पैटर्न?

सीबीएसई के प्लेटफॉर्म पर साइंस चैलेंज अप्रैल से मई तक उपलब्ध होगा। जिसमें कक्षा 8वीं से लेकर 10वीं के सभी छात्रों को भाग लेने की अनुमति होगी। इसमें भाग लेने के लिए किसी प्रकार के फीस भुगतान की जरूरत नहीं पड़ेगी। प्रोग्राम का आयोजन दो राउन्ड में होगा। पहले राउन्ड में सभी छात्र भाग ले पाएंगे, जो स्कूल में आयोजित होगा। वहीं दूसरा राउन्ड इंटर स्कूल लेवल पर होगा, जिसमें सभी स्कूलों को अपने 6 विद्यार्थियों का रजिस्ट्रेशन करवा पाएंगे।

Continue Reading

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"