MP College : उच्च शिक्षा विभाग का बड़ा फैसला, इस Mode में आयोजित होगी कॉलेज की परीक्षाएं

MP College: जिसके बाद अब यह पूर्ण रूप से कॉलेज पर निर्धारित करेगा कि वह किस मोड में परीक्षा का आयोजन करवाना चाहते हैं।

mp college

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MP) में Corona के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए Mp college Exam के लिए उच्च शिक्षा विभाग (higher education department) ने बड़ा फैसला लिया। दरअसल मध्य प्रदेश के कॉलेजों में परीक्षा ऑफलाइन (offline) आयोजित की जाएगी। परीक्षा ऑफलाइन मोड में आयोजित कराने के लिए उच्च शिक्षा विभाग ने आदेश जारी कर दिए हैं। कॉलेजों में परीक्षा ऑफलाइन मोड में आयोजित कराने के साथ ही परीक्षा (exam) को लेकर तैयारियां शुरू कर दी गई है।

बता दें कि प्रदेश के कॉलेजों में दिसंबर और जनवरी में होने वाली परीक्षाओं के लिए तैयारियां शुरू कर दी है। साथ ही परीक्षा केंद्र Corona गाइडलाइन का पालन करने के निर्देश भी दिए गए हैं। उच्च शिक्षा विभाग ने आदेश जारी करते हुए कहा है कि छात्र-छात्राओं को परीक्षा देने सेंटर पर ही जाना होगा। परीक्षा ऑफलाइन मोड में आयोजित की जाएगी। वहीं फिलहाल कॉलेज में कक्षाएं 50 फीसद उपस्थिति के साथ संचालित की जा रही है।

उच्च शिक्षा विभाग के जारी आदेश के मुताबिक ऑफलाइन बोर्ड परीक्षा आयोजित करने के साथ ही साथ पीजी फर्स्ट और थर्ड सेमेस्टर की परीक्षा परीक्षा केंद्र पर आयोजित होगी। जिसमें परीक्षा 50 फीसद उपस्थिति से आयोजित की जाएगी। उच्च शिक्षा विभाग ने कहा है कि कॉलेज छात्र संख्या, उपलब्ध संसाधन को देखकर परीक्षा ऑफलाइन-ऑनलाइन Mode में कराने का फैसला स्वयं ले सकेंगे।

Read More : नई साल में कर्मचारियों के वेतन में होगी बंपर बढ़ोतरी , 45 हजार तक बढ़ेगी सैलरी, जाने नई अपडेट

हालांकि परीक्षा ऑफलाइन ऑनलाइन किसी भी मूड में आयोजित की जाए Corona प्रोटोकॉल का पालन करना अनिवार्य होगा। इसके अलावा पीजी फर्स्ट और थर्ड सेमेस्टर की परीक्षाएं किसी भी Mode में कराने का फैसला खुद विश्वविद्यालय का होगा।

बता दें कि देश भर में Corona के नए वेरिएंट ओमाइक्रोन की दस्तक के बाद कॉलेज के छात्रों द्वारा लगातार कॉलेज में ऑनलाइन परीक्षा कराने की मांग की जा रही है। छात्र छात्राओं का कहना है कि इस साल भी ऑनलाइन मोड में ही परीक्षा कराई जाए। छात्रों का कहना है कि आधे से ज्यादा सत्र में कक्षा ऑनलाइन ही संचालित की गई है। इसलिए परीक्षाएं भी ऑफलाइन मोड की जगह ऑनलाइन मोड में ही कराना उचित होगा।

वहीं छात्रों की मांग और Corona के नए वेरिएंट के साथ-साथ कॉलेज में उपलब्ध संसाधनों की व्यवस्था को देखते हुए उच्च शिक्षा विभाग ने कॉलेजों को ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों Mode के हिसाब से परीक्षा आयोजित करने के फैसले लेने की छूट दे दी है। जिसके बाद अब यह पूर्ण रूप से कॉलेज पर निर्धारित करेगा कि वह किस मोड में परीक्षा का आयोजन करवाना चाहते हैं।