NEET PG 2024: नीट पीजी को लेकर बड़ी अपडेट, बदल गया परीक्षा का पैटर्न, बढ़ सकती है छात्रों की टेंशन

नीट पीजी परीक्षा प्रारूप में बड़ा बदलाव हुआ है, जिसे लेकर विरोध भी शुरू हो चुका है। NBEMS ने मेडिकल प्रवेश परीक्षा के लिए टाइम बाउन्ड सेक्शन शुरू किया है।

Manisha Kumari Pandey
Published on -
NEET PG 2024

NEET PG 2024: नेशनल बोर्ड ऑफ एग्जामिनेश फॉर मेडिकल साइंस (NBEMS) ने नीट पीजी को लेकर बड़ी घोषणा की है। परीक्षा के पैटर्न मएब बदलाव किया है, जो छात्रों की चिंता बढ़ा सकता है। इस संबंध में एनबीईएमएस ने नोटिस भी जारी कर दिया है।

क्या है नियम?

नए नियमों के तहत नीट पीजी परीक्षा को अलग-अलग समय सेक्शन (Time Bound Sections) में बाँट दिया गया है। परीक्षा पेपर के सभी भागों के लिए एक समय सीमा तय होगी। प्रश्न पत्र 5 भागों में बंटा होगा, प्रत्येक के लिए कैंडीडेट को 40-42 मिनट का समय दिया जाएगा। इतना ही नहीं छात्रों को समय खत्म होने के बाद आन्सर में सुधार या बदलाव की अनुमति नहीं होगी।

Continue Reading

About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"