Fake Universities: यूजीसी ने 20 विश्वविद्यालयों को फर्जी घोषित किया, छात्रों के लिए नोटिस जारी, पढ़ें पूरी खबर

ugc discontinued mphil degree

Fake Universities List By UGC: विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने फर्जी विश्वविद्यालयों से संबंधित एक नोटिस जारी किया है। जिसमें छात्रों और अभिभावकों को जांच परख कर किसी भी यूनिवर्सिटी में दाखिला लेने की सलाह दी है। यूजीसी ने ऑफिशियल वेबसाइट पर फर्जी विश्वविद्यालयों की लिस्ट भी जारी है। जिसके मुताबिक 20 यूनिवर्सिटी को फर्जी घोषित किया गया है, इन्हें डिग्री प्रदान करने की मान्यता प्राप्त नहीं है। लिस्ट ऑफिशियल वेबसाइट www.ugc.gov.in पर उपलब्ध है।

दिल्ली के 8 विश्वविद्यालय फर्जी घोषित

आयोग ने दिल्ली के 8 विश्वविद्यालयों को फेक घोषित कर दिया है। इस लिस्ट में ऑल इंडिया इंस्टिट्यूट ऑफ पब्लिक एंड फिजिकल हेल्थ साइंसेज स्टेट गवर्नमेंट यूनिवर्सिटी, कमर्शियल यूनिवर्सिटी लिमिटेड, यूनाइटेड नेशन्स यूनिवर्सिटी, वोकेशनल यूनिवर्सिटी, इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ साइंस एंड इंजीनियरिंग, विश्वकर्मा ओपन यूनिवर्सिटी, आध्यात्मिक विश्वविद्यालय और ADR-Centric Judicial यूनिवर्सिटी शामिल हैं।

यूपी में 2 फर्जी यूनिवर्सिटी

यूजीसी ने उत्तरप्रदेश में स्थित गांधी हिन्दी विद्यापीठ, नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ इलेक्ट्रो कॉम्प्लेक्स हैम्योपैथी, नेताजी सुभाष चंद्र बोस विश्वविद्यालय और भारतीय शिक्षा परिषद को फर्जी बताया है।

इन राज्यों में भी फर्जी विश्वविद्यालय

आंध्र प्रदेश के क्राइस्ट न्यू टेस्टामेंट डीम्ड यूनिवर्सिटी और बाइबल ओपन यूनिवर्सिटी को फर्जी घोषित किया है। इस लिस्ट में पश्चिम बंगाल के इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ ऑल्टर्नेटिव मेडिसिन और इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ ऑल्टर्नेटिव मेडिसिन एंड रिसर्च शामिल हैं। केरल के सेंट जॉन्स यूनिवर्सिटी, कर्नाटक के बदगानवी सरकार वर्ल्ड ओपन यूनिवर्सिटी, पुडुचेरी के श्री बोधि उच्च शिक्षा अकादमी और महाराष्ट्र के राज्य अरबी विश्वविद्यालय को भी फर्जी घोषित कर दिया है।

Fake Universities: यूजीसी ने 20 विश्वविद्यालयों को फर्जी घोषित किया, छात्रों के लिए नोटिस जारी, पढ़ें पूरी खबर

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News