पीड़ित का दर्द बताती आईपीएस की यह कविता “वाह थानेदार”

शुरुआती 4 पंक्तियों में लिखा है "लुटे हुए को लूटा, बैठे हुए को पीटा। फरियादी रोता रोता, गांव लौट गया रीता।"

रायपुर डेस्क रिपोर्ट। छत्तीसगढ़ के वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी आर के विज की एक कविता सोशल मीडिया पर बेहद पसंद की जा रही है। इसमें उन्होंने गांव से गए एक फरियादी की पीड़ा को व्यक्त करते हुए पुलिस स्टेशन के प्रभारी को केन्द्र बनाया है।

पीड़ित का दर्द बताती आईपीएस की यह कविता "वाह थानेदार"

1988 बैच के आईपीएस अधिकारी आरके विज 31 दिसंबर को रिटायर हो रहे हैं। विज सोशल मीडिया पर काफी सक्रिय रहते हैं और लगभग एक महीने पहले ही जब अशोक जुनेजा को डीजीपी बना दिया गया था और विज चूक गए थे तो उन्होंने ट्वीट किया था। इसमें उन्होंने लिखा था “कुछ कही, कुछ अनकही, कुछ ख्वाहिशें मेरी,जिंदगी भर अधूरी रही।” विज मध्य प्रदेश में कई जिलों के एसपी रह चुके है। विज ने सोशल मीडिया पर एक कविता साझा की है और बताया है कि उन्होने यह कविता पुलिस अधीक्षक झाबुआ रहते हुए लिखी थी और पुलिस अधिकारियों को सुनाई दी थी। कविता का शीर्षक है “वाह थानेदार।” ट्विटर में शुरू में उन्होंने उसकी चार पंक्तियां साझा करते हुए बाद में पूरी कविता को पेज के रूप में पोस्ट किया है।

यह भी पढ़ें…MP Government Jobs : इन पदों पर होगी भर्ती, 30 जनवरी तक कर सकेंगे आवेदन, जाने नियम और पात्रता

शुरुआती 4 पंक्तियों में लिखा है “लुटे हुए को लूटा, बैठे हुए को पीटा। फरियादी रोता रोता, गांव लौट गया रीता।” हालांकि विज ने कविता के साथ नोट लिखते हुए यह भी लिखा है कि इसे केवल कविता की तरह पढ़े और साथ ही यह भी बताया है कि थानेदारों का पक्ष कल प्रकाशित किया जाएगा। साथ ही आग्रह किया है कि इसे केवल कविता की तरह पढे। ट्विटर पर उनकी इस कविता को बेहद पसंद किया जा रहा है और लिखा गया है “जो बात आप ने 1995 में लिखी थी, वह आजकल हर जगह यही हो रही है। यहा सिर्फ दबे कुचले लोगों के साथ ही होता है।” अन्य ट्वीट में लिखा गया है “सत्य पर कविता लिखी है सर। आपको सैल्यूट।” एक अन्य ट्विट मे लिखा है कि “सर यह सुंदर कविता को पुलिस वाले अगर शपथ के तौर पर ले लें तो काफी जागरूकता पैदा होगी, ऐसा मेरा मानना है।”