बीजेपी विधायक का सीएम को ट्वीट, नीमच मंदसौर के मरीजों को रतलाम मेडिकल कॉलेज में भर्ती की हो व्यवस्था

Yashpal Singh Sisodiya
Yashpal Singh Sisodiya

मंदसौर डेस्क रिपोर्ट।बीजेपी के वरिष्ठ नेता और मुखर विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को ट्वीट किया है। ट्वीट के माध्यम से उन्होंने मंदसौर और नीमच जिले के गंभीर कोरोना संक्रमित मरीजों को रतलाम के मेडिकल कॉलेज में इलाज की व्यवस्था करने का आग्रह किया है।

इंदौर में 30 अप्रैल तक शादी समारोह बैन का विरोध शुरू

सीएम शिवराज सिंह चौहान को किए गए ट्वीट में बीजेपी विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया ने लिखा है कि मंदसौर और नीमच के गंभीर कोरोना संक्रमित मरीजो को रतलाम मेडिकल कॉलेज में भर्ती नहीं किया जा रहा है और यह कहकर उन्हें चलता किया जाता है कि स्थान खाली नहीं है ।परेशानी की बात यह है कि मंदसौर और नीमच दोनों जिलों के लिए इंदौर काफी दूर है और इलाज की समुचित व्यवस्था केवल रतलाम के मेडिकल कॉलेज में हो सकती है। ऐसे में यशपाल ने आग्रह किया है कि रतलाम मेडिकल कॉलेज में मंदसौर और नीमच के मरीजों के लिए कुछ स्थान आरक्षित कर दिए जाएं ताकि उन्हें किसी तरह की परेशानी का सामना ना करना पड़े। रोजाना करीब 10 से 12 मामला ऐसे आ रहे हैं जब नीमच और मंदसौर दोनों जिलों के मरीज गंभीर स्थिति में एंबुलेंस के माध्यम से रतलाम मेडिकल कॉलेज रेफर किए जाते हैं लेकिन वहां पर उनको इलाज के लिए भर्ती नहीं किया जाता और कह दिया जाता है कि पलंग खाली नहीं है।

एसएससी सीएचएसएल परीक्षा स्थगित, अभ्यर्थियों ने ट्विटर पर चलाई थी मुहीम

हैरत की बात यह है कि मंदसौर जिले के बीजेपी के वरिष्ठ नेता, मंत्री जगदीश देवड़ा रतलाम के प्रभारी भी हैं और वे इस समय कोरोना की व्यवस्था के लिए भी रतलाम जिले को देख रहे हैं। यदि वह सार्थक प्रयास करें तो इस तरह की व्यवस्था बड़ी आसानी से लागू की जा सकती है कि कुछ स्थान मंदसौर और नीमच जिले के मरीजों के लिए आरक्षित हो जाएं ।इस समय मंदसौर और नीमच दोनों जिलों में मिलाकर लगभग 100 के ऊपर कोरोना मरीज रोज निकल रहे हैं जिनमें से 10 या 12 की स्थिति ऐसी होती है कि उनका ऑक्सीजन सैचुरेशन काफी नीचा होता है और ऐसी स्थिति में उनका मंदसौर या नीमच में इलाज संभव नहीं और मजबूरी में उन्हें रतलाम भेजना पड़ता है और यदि वहां इलाज नहीं मिले तो फिर मरीज की जान पर बनाना स्वाभाविक है।