जबलपुर, संदीप कुमार। बढ़ते कोरोना को देखते हुए प्रदेश में रविवारीय लॉकडाउन (Sunday Lockdown) के निर्देश दिए गए है, उसी की तर्ज पर जबलपुर (Jabalpur) में रविवार को पूर्णता लॉकडाउन (Lockdown) लगा हुआ था। इसके बाद भी बहुत से लोग ऐसे थे जो कि जिला प्रशासन के आदेश की धज्जियाँ उड़ाने से भी बाज नही आ रहे थे। लिहाजा ऐसे लोगों के खिलाफ पुलिस-प्रशासन ने सिर्फ जुर्माने की कार्यवाही नहीं की बल्कि उन्हें अस्थाई जेल भी भेजा गया।

यह भी पढ़ें….NHM की एमडी छवि भारद्वाज पहुंची बैतूल, कोविड सेंटर का निरीक्षण कर, व्यवस्थाओं का लिया जायजा

40 लोगों को पुलिस ने खिलाई जेल की हवा
जबलपुर में लगातार कोरोना संक्रमण (Corona infection) बढ़ रहा है जिसे देखते हुए जबलपुर कलेक्टर (Jabalpur Collector) ने आदेश जारी किया है कि अब जो भी लॉकडाउन का उल्लंघन करेगा उससे जुर्माना तो वसूल किया ही जाएगा। इसके अलावा उन्हें अस्थाई जेल में भी रखा जाएगा। रविवार को लॉकडाउन के दौरान जबलपुर पुलिस में करीब 40 लोगों को अस्थाई जेल में भेजा। इसके अलावा मास्क ना पहनने वालों पर भी चालानी कार्यवाही करते हुए करीब 3,00,000 का जुर्माना पुलिस प्रशासन ने वसूला।

मध्यप्रदेश के जबलपुर में बनी है अस्थाई जेल
जबलपुर कलेक्टर कर्मवीर शर्मा ने शहर के छह स्थान में अस्थाई जेल बनाई है, ये जेल रांझी-अधारताल और गोरखपुर में बनाई गई है। जहाँ लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालो को करीब 6 घन्टे रखा जाता है, लॉकडाउन को सफल बनाने के लिए जबलपुर पुलिस 24 घंटे सड़को पर रहती है इसके अलावा पुलिस ने चालानी कार्यवाही करते हुए जुर्माना भी वसूला। वही रविवार को लॉकडाउन का उल्लंघन करने को लेकर जिन 40 लोग को पुलिस ने अस्थाई जेल भेजा था उनसे पुलिस ने बॉन्ड भी भरवाया है, अगर यह लोग बॉन्ड का उल्लंघन करते हुए पुनः लॉकडाउन में अनावश्यक रूप से बाहर घूमते हुए देखे जाएंगे, तो फिर इन पर कड़ी कार्यवाही करते हुए इन्हें केंद्रीय जेल भेजा जाएगा, गौरतलब है कि मध्यप्रदेश का जबलपुर पहला ऐसा जिला है जहां पर की कलेक्टर ने अस्थाई जेल बनाई है।

यह भी पढ़ें….BREAKING : महाराष्ट्र के गृह मंत्री NCP नेता अनिल देशमुख ने दिया इस्तीफा, ट्विटर पर साझा किया