Lockdown: बेलगाम कोरोना,अगले हफ्ते से और बढ़ेगा लॉकडाउन

lockdown
lockdown

Bhopal Desk–
कोरोना का बढता संक्रमण एक बार फिर लॉक डाउन (Lockdown) की ओर ले जाने को मजबूर कर रहा है। प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस बात के निर्देश दिए हैं जो जिले लॉक डाउन लगाना चाहते हैं उन्हें रविवार को लॉकडाउन (Lockdown) लगाने की अनुमति दी जाए।

Poisonous liquor : पूर्व मंत्री की बीजेपी नेता को चुनौती, हिम्मत है तो गिरफ्तार करें

एक के बाद एक बढ़ते कोरोना संक्रमितो के आंकड़े सरकार को सख्त कदम उठाने पर मजबूर कर रहे हैं। देशभर में शनिवार का दिन कोरोना संक्रमण का नया विस्फोट लेकर आया। सात महीने बाद कोरोना संक्रमण का रिकॉर्ड बना और 89129 नये कोरोना संक्रमित सामने आए। इससे पहले 20 सितंबर 2020 को 92565 मरीज मिले थे। मध्य प्रदेश की अगर बात करें तो यह देश के उन राज्यों में शुमार हो गया है जो कोरोना संक्रमण के मामले में प्रथम 10 राज्यों में शामिल है। शनिवार को प्रदेश में 2829 नए मरीज मिले। इन सबके बीच मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कोरोना की समीक्षा बैठक की और सख्त निर्देश दिए कि कोरोना को लेकर दवाई के साथ-साथ कङाई भी जरूरी है। फिलहाल 4 अप्रैल को मध्य प्रदेश के 13 शहरों में लॉक डाउन (Lockdown) है। इनमें भोपाल, इंदौर, जबलपुर, ग्वालियर, बैतूल, विदिशा, उज्जैन, रतलाम, नीमच, नरसिंहपुर, छिंदवाड़ा, श्योपुर और खरगोन शामिल है।

Panna News : नदी लिंक परियोजना का विरोध जारी, कांग्रेस ने वीडी शर्मा को सौंपा ज्ञापन

 

20 के करीब ऐसे जिले हैं जिन में कोरोना संक्रमण की रफ्तार तेजी से बढ़ रही है और इसलिए मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि जो भी जिले संडे लॉक डाउन (Lockdown) करना चाहते हैं, उन्हें अनुमति दी जाए। अब यह निर्णय जिला क्राइसिस कमेटी को करना है और इस बात की व्यापक संभावना है कि स्थानीय स्तर पर लोगों की हिफाजत के लिए जिला प्रशासन (Lockdown)कदम उठाए। शनिवार को ही मुख्यमंत्री ने इस बात के भी निर्देश दिए थे कि अब कोरोना संक्रमण रोकने के लिए दवाई के साथ साथ कङाई भी जरूरी है और इसीलिए मास्क न पहनने वालों पर कङाई के साथ कार्रवाई की जाए। अब प्रदेश में मास्क नहीं पहनने वालों पर न केवल जुर्माना होगा बल्कि उनको कुछ समय के लिए अस्थाई जेल में भी रखा जाएगा। मुख्यमंत्री के इस निर्देश के बाद प्रदेश के कई जिलों में कलेक्टर ने इस बाबत निर्देश भी जारी कर दिए हैं। मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को यह भी निर्देश दिए हैं कि कोरोना संक्रमितो के बेहतर इलाज की व्यवस्था में कोई कमी नहीं रहनी चाहिए। विशेषकर गरीब वर्ग के लोगों को आयुष्मान कार्ड के माध्यम से इलाज करने की समुचित व्यवस्था करने के मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं।

बरगी में लगा 100 साल का Lockdown, तहसीलदार ने जारी किए आदेश

 

मध्य प्रदेश के कई जिले ऐसे हैं जहां 20 से ज्यादा कोरोना संक्रमित नये मामले पाए गए हैं। ऐसे जिलो पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है। सबसे बड़ी चुनौती राज्य सरकार के सामने यह है कि लगातार टेस्ट भी हो और उसके साथ-साथ वैक्सीन भी लगती रहे। टेस्ट के मामले में गंभीर बात यह सामने आई है कि पॉजिटिविटी रेट लगभग 10% हो गया है। ऐसे में सरकार के सामने बड़ी चुनौती यह है कि वह कोरोना संक्रमण को रोकने के साथ-साथ लगातार टेस्ट भी कराती रहे।
मध्यप्रदेश में 20 हजार 369 एक्टिव प्रकरण है। प्रदेश की गत 7 दिनों की औसत पॉजिटिविटी रेट 10.1 प्रतिशत है। तुलनात्मक रूप से संक्रमण में देश में मध्यप्रदेश आठवें स्थान पर है।जिला वार समीक्षा में पाया गया कि इंदौर में 708, भोपाल में 502, जबलपुर में 205, ग्वालियर में 120, उज्जैन में 89, रतलाम में 79, खरगोन में 74, बड़वानी में 72, छिंदवाड़ा में 71, बैतूल में 65, कटनी में 50, झाबुआ में 47, शाजापुर में 47, विदिशा में 44, अनूपपुर में 40, सागर में 38, नीमच में 37, धार में 36, बालाघाट में 34, देवास में 34, रायसेन में 29, खंडवा में 28, नरसिंहपुर में 27, शिवपुरी में 27, गुना में 25, शहडोल में 25 तथा होशंगाबाद में 23 कोरोना के नए प्रकरण आए हैं।