Corona Vaccine: आइए जाने वैक्सीनेशन के बाद भी लोग क्युं हो रहे है संक्रमित

वैक्सीनेशन
vaccination

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। कोरोना संक्रमण (Coronavirus) को रोकने के लिए दुनियाभर में टीकाकरण (Vaccination)अभियान चलाया जा रहा है। ब्लूमबर्ग ने जो आंकड़ें जारी किए है उस के मुताबिक, पूरे विश्व में अब तक 43 करोड़ से अधिक लोगों को टीके लगाए जा चुके हैं। अमेरिका (America) में रोजाना 20 लाख से अधिक लोगों का टीकाकरण (Vaccination) हो रहा है और भारत में भी लगभग यही आंकड़ा चल रहा है। लेकिन, टीकाकरण शुरू होने बाद सबसे बड़ा सवाल ये बन गया है कि आखिर वैक्सीन लगवाने के बाद भी लोग कैसे संक्रमित हो रहे हैं? जैसे पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने कुछ दिन पहले ही कोरोना की पहली वैक्सीन लगवाई थी, और बाद में वह संक्रमित हो गए। साथ ही भारत में भी ऐसे कई मामले सामने आ रहे हैं, जिसमें टीका लगवाने के बाद भी लोग संक्रमित हो रहे हैं।

gwalior

ये भी पढे़ –होली पर बैन, लॉकडाउन के बाद सामने आया मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान का बड़ा बयान

सिर्फ एक डोज काफी नहीं

इस बारे में जब विशेषज्ञों से बात की गई तो उन्होंने बताया कि वैक्सीन की सिर्फ एक डोज कोरोना से बचने के लिए काफी नहीं है, बल्कि दोनों खुराक लेनी पड़ेगी। सरकार की गाइडलाइन के मुताबिक, वैक्सीन की पहली खुराक लेने के बाद 28 से 42 दिन के बीच दूसरी खुराक ले सकते हैं।

पहले डोज के बाद वायरस का गंभीर प्रभाव नहीं दिखेगा
साथ ही ऑल इंडिया रेडियो (All India Radio) से खास बातचीत में मुंबई के किंग एडवर्ड मेमोरियल अस्पताल के डीन डॉ. हेमंत देशमुख ने बताया  कि जब वैक्सीन लगती है तो दूसरी डोज के 15 दिन बाद वायरस से लड़ने की क्षमता बॉडी में बनती है। लेकिन, अगर वैक्सीन लगने के तुरंत बाद लोग कोरोना से बचाव के उपायों का पालन नहीं करते हैं तो उनके वायरस से संक्रमित होने की संभावना बढ़ जाती है। उन्होंने यह भी कहा था कि अगर वैक्सीन लगने के बाद कोई संक्रमित हुआ है, तो उसपर वायरस का गंभीर प्रभाव नहीं दिखेगा, क्योंकि शरीर के अंदर उस वायरस से लड़ने के लिए एंटीबॉडी जल्दी बनने लगती है, इसलिए व्यक्ति गंभीर रूप से बीमार नहीं होता।

ये भी पढे़ –Murder: अपने ही बेटों ने ली शराबी पिता की जान, कहा मां से शराब पीकर करते थे मारपीट, दोनों ने कबूला जुर्म