सोनू सूद ने सोनू की सुन ली, इंटरनेशनल स्कूल में कराया दाखिला

फिल्म एक्टर सोनू सूद का नाम अपने सामाजिक कार्यों के लिए मशहूर हो गया है। आए दिन वह किसी न किसी की मदद करते हुए दिखाई देते हैं। इसी लिस्ट में एक और नाम जुड़ गया है बिहार के 11 साल के सोनू का। अभिनेता ने सोनू का इंटरनेशनल स्कूल में एडमिशन करवाया है।

मनोरंजन, डेस्क रिपोर्ट। फिल्म एक्टर सोनू सूद का नाम अपने सामाजिक कार्यों के लिए मशहूर हो गया है। आए दिन वह किसी न किसी की मदद करते हुए दिखाई देते हैं। इसी लिस्ट में एक और नाम जुड़ गया है बिहार के 11 साल के सोनू का। अभिनेता ने सोनू का इंटरनेशनल स्कूल में एडमिशन करवाया है। सोनू सूद ने अपने इंस्टाग्राम हैंडल पर सोनू के फोटो के साथ यह जानकारी साझा की है।

यह भी पढ़ें- बरगी बांध के पुल घाट में पांव फिसलने से माँ और बेटे डूबे, पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल भेजा

साथ ही ट्वीट कर यह भी बताया कि ना सिर्फ बच्चे का स्कूल में एडमिशन करवाया गया है, बल्कि रहने, खाने-पीने के लिए हॉस्टल की भी व्यवस्था कर दी गई है। सोनू का यह मददगार रवैया एक बार फिर लोगों के दिल में घर कर गया है। दरअसल, 14 मई को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार नालंदा गए हुए थे। अपनी पत्नी स्वर्गीय मंजू सिन्हा की पुण्यतिथि के मौके पर वह कल्याण बिगहा गांव पहुंचे।

यह भी पढ़ें- इंदौर में महिला थाने के पास धमाकों के साथ लगी आग, जब्ती के वाहन आये आग की चपेट में

जहां जनसंवाद कार्यक्रम के दौरान 11 साल के सोनू कुमार ने सीएम से बेहतर शिक्षा की मांग करते हुए बताया कि उसके पिता शराब पीते हैं, जिसमें सारा पैसा खत्म हो जाता है। वह बच्चों को ट्यूशन पढाता है, जिससे थोड़े बहुत पैसे वह कमाता है, उसके पिता वह भी ले लेते हैं। सोनू का सीएम से बातचीत का यह वीडियो सोशल मीडिया पर काफी वायरल हुआ था।

यह भी पढ़ें- TVS ने भारत में लॉन्च किए नए इलेक्ट्रिक स्कूटर, जाने कितना मिलेगी रेंज

लोगों ने सोनू सूद को इस विडियो में टैग करते हुए उसकी सहायता करने की रिक्वेस्ट की थी। जिसके बाद अभिनेता ने बच्चे का एडमिशन पटना के इंटरनेशनल स्कूल में करवाया है और अपने सोशल मीडिया पर इसकी जानकारी देते हुए लिखा कि, ‘सोनू ने सोनू की सुन ली भाई। स्कूल का बस्ता बांधिए। आपकी पूरी शिक्षा और हॉस्टल की व्यवस्था हो गई है।’

यह भी पढ़ें- Business Idea : मात्र ₹15000 लगाकर 3 महीने में कमा सकते हैं लाखों रुपए

सोनू का यह कारनामा लोगों को प्रेरित कर रहा है, कि यदि सभी लोग ज्यादा नहीं पर किसी एक बच्चे को उसकी प्राथमिक शिक्षा पूरी करने में ही सहयोग कर दें, तो भारत का 100% साक्षरता मिशन पूरा होने में अब देरी नहीं होगी।