राशन कार्ड धारकों के लिए बड़ी खबर, पूरे देश में इस तरह से मिलेगा लाभ, पोर्टलबिलिटी-स्मार्ट कार्ड सहित हेल्पलाइन नंबर पर बड़ी अपडेट

सभी राज्य के हेल्पलाइन नंबर यहां उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। राशन कार्ड धारकों (ration card holders) के लिए बड़ी खबर है। दरअसल पूरे देश में वन नेशन वन राशन कार्ड(one nation one ration card) योजना लागू हो गई है। इस योजना के लागू होने के बाद अब धारक अपने राशन कार्ड के जरिए किसी भी राज्य में राशन पोटेबिलिटी (ration card portablility)  की पात्रता रखेंगे। इसके अलावा उन्हें स्मार्ट कार्ड (smart ration card) के जरिए भी कई सुविधाओं का लाभ दिया जाएगा। इतना ही नहीं यदि राशन कार्ड धारकों से डीलर किसी भी प्रकार का भ्रष्टाचार करते हैं- कमतौल के साथ उन्हें राशन उपलब्ध कराए जाते हैं तो इसकी शिकायत भी उपभोक्ता दर्ज कर सकते हैं। इसके लिए लाभार्थियों के सुविधा को देखते हुए राज्यवार हेल्पलाइन नंबर (helpline number) भी जारी किया गया है।

खाद्य मंत्रालय ने कहा कि असम ने आखिरकार राशन कार्ड पोर्टेबिलिटी सेवा शुरू कर दी है और इसके साथ ही केंद्र का ‘एक राष्ट्र, एक राशन कार्ड’ कार्यक्रम पूरे देश में लागू हो गया है। ONORC (वन नेशन, वन राशन कार्ड) के तहत, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम, 2013 (NFSA) के तहत कवर किए गए लाभार्थी अपनी पसंद के किसी भी इलेक्ट्रॉनिक पॉइंट ऑफ़ सेल डिवाइस (ePoS)-सक्षम उचित मूल्य की दुकानों से सब्सिडी वाले खाद्यान्न का अपना कोटा प्राप्त कर सकते हैं।

दरअसल असम वन नेशन वन राशन कार्ड को लागू करने वाला 36 राज्य बन गया है। इसके साथ ही मंत्रालय ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान पिछले 2 साल तक राशन कार्ड धारक विशेष रूप से प्रवासी लाभार्थियों को रियायत पहुंचाने के लिए सरकार द्वारा कई महत्वपूर्ण कदम उठाए गए हैं। मई 2019 के बाद के आंकड़ों की बात करें तो पोटेबिलिटी के माध्यम से कई लाभार्थियों को खाद्यान्न का लाभ दिया गया। जिसमें 40000 करोड़ रुपए के बराबर खाद्यान्न पहुंचाने के लिए 71 करोड पोटेबिलिटी देखने को मिली है। जिसमें पोर्टेबल लेनदेन को शामिल किया गया।

ज्ञात हो कि वन नेशन वन राशन कार्ड योजना का लाभ लेने के लिए सरकारी के मोबाइल एप्लीकेशन मेरा राशन (MERA RATION) पर भी जा सकते हैं। MERA RATION सरकार द्वारा शुरू किया गया मोबाइल एप्लीकेशन ऐप है। जिसमें उपयोगी रियल टाइम जानकारी देने के अलावा इसे 13 भाषा में उपलब्ध किया गया है। वही जो लोग छूटे हुए हैं उन्हें जल्द स्मार्ट राशन कार्ड (Smart Ration card) का भी लाभ दिया जाएगा। स्मार्ट राशन कार्ड के जरिए लोग बेहद आसानी से राशन कार्ड के जरिए राशन हासिल कर पाएंगे। स्मार्ट कार्ड के कई फायदे हैं, पोटेबिलिटी राशन कार्ड के लिए स्मार्ट कार्ड एक बेहतरीन चयन हो सकते हैं।

Read More : MPPSC : उम्मीदवारों के लिए बड़ी खबर, राज्य सेवा प्रारंभिक परीक्षा 2021 पर नई अपडेट, Provisional Answer Key जारी, 283 पदों पर होनी है भर्ती

भारत में राशन कार्ड एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है। यह भारत के सभी नागरिकों की मदद करने के लिए भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया था। अब राशन कार्ड को बुकलेट से स्मार्ट कार्ड में बदला जा रहा है। एक स्मार्ट राशन कार्ड एक एटीएम कार्ड के आकार का होता है। इसे हम पहचान पत्र के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं। पहचान पत्र के सामने की तरफ मालिक का फोटो क्यूआर कोड (QR Code) और बारकोड (barcode) होता है। दूसरे पक्ष की मासिक आय, राशन स्टोर का नंबर, बिजली कनेक्शन और एलपीजी गैस कनेक्शन आदि है।

  • हम अपने राशन कार्ड को स्मार्ट कार्ड में बदल सकते हैं।
  • हम स्मार्ट कार्ड के लिए सीधे तालुक आपूर्ति कार्यालय में आवेदन कर सकते हैं।
  • अन्यथा हम स्मार्ट कार्ड के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं।
  • यदि हमारे राशन कार्ड को तालुक आपूर्ति कार्यालय द्वारा अनुमोदित किया जाता है, तो यह आवेदकों के लॉगिन पर पहुंच जाएगा।
  • तालुक कार्यालय से अधिसूचना उपलब्ध होने पर हम पीडीएफ संस्करण को डाउनलोड करके और स्मार्ट कार्ड लेकर इसका उपयोग कर सकते हैं।

स्मार्ट कार्ड के फायदे

  • स्मार्ट राशन कार्ड एक पोस्टकार्ड के आकार का होता है
  • इसमें क्यूआर कोड और बारकोड है।
  • इसमें नाम, फोटो, पता, मासिक आय, राशन दुकान संख्या, बिजली विवरण और एलपीजी कनेक्शन विवरण शामिल हैं।
  • स्मार्ट कार्ड स्कैन करते समय कार्ड धारक का विवरण और खरीद विवरण दिखाई देता है
  • विवरण मोबाइल नंबर पर दिखाई देता है।
  • इसे आसानी से कहीं भी ले जाया जा सकता है।
  • इस कार्ड का उपयोग हम पहचान पत्र के रूप में कर सकते हैं।

हेल्पलाइन नंबर

इसके अलावा यदि आपको राशन कार्ड के जरिए मिलने वाले खाद्यान्न में किसी भी तरह की धोखाधड़ी देखने को मिल रही है या कम राशन कार्ड की शिकायत सामने आ रही है तो इसके लिए राज्य भर हेल्पलाइन नंबर जारी किया गया है। जिस पर शिकायत कर आप तुरंत डीलर के खिलाफ शिकायत दर्ज करा सकते हैं। सभी राज्य के हेल्पलाइन नंबर यहां उपलब्ध कराए जा रहे हैं।

राज्यवार शिकायत हेल्पलाइन नंबर

  • आंध्रप्रदेश – 1800 425 2977
  • अरुणाचल प्रदेश – 03602244290
  • असम – 1800 345 3611
  • बिहार 1800 3456 194
  • छ्त्तीसगढ़ 1800 233 3663
  • गोवा 1800 233 0022
  • गुजरात 1800 233 5500
  • हरियाणा – 1800 180 2087
  • हिमाचल प्रदेश – 1800 180 8026
  • झारखंड – 1800 345 6598, 1800 212 5512
  • कर्नाटक 1800 425 9339
  • केरल 1800 425 1550
  • मध्यप्रदेश 181
  • महाराष्ट्र 1800 22 4950
  • मणिपुर 1800 345 3821
  • मेघालय 1800 345 3670
  • मिजोरम 1860 222 222 789, 1800 345 3891
  • नागालैंड 1800 345 3704, 1800 345 3705
  • ओड़िशा – 1800 345 6724 / 6760
  • पंजाब – 1800 3006 1313
  • राजस्थान – 1800 180 6127
  • सिक्किम – 1800 345 3236
  • तमिलनाडू – 1800 425 5901
  • तेलंगाना – 1800 4250 0333
  • त्रिपुरा 1800 345 3665
  • उत्तरप्रदेश 1800 180 0150
  • उत्तराखंड – 1800 180 2000, 1800 180 4188
  • पश्चिम बंगाल – 1800 345 5505
  • दिल्ली – 1800 110 841
  • जम्मू – 1800 180 7106
  • कश्मीर – 1800 180 7011
  • अण्डमान और निकोबार द्वीपसमूह – 1800 343 3197
  • चण्डीगढ़ – 1800 180 2068
  • दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव – 1800 233 4004
  • लक्षद्वीप – 1800 425 3186
  • पुदुच्चेरी – 1800 425 1082

स्मार्ट राशन कार्ड के लिए आवेदन कैसे करें

  • नागरिक आपूर्ति निगम की आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।
  • नागरिक लॉगिन विकल्प चुनें
  • आप नागरिक विकल्प का चयन कर सकते हैं।
  • खाता बनाएँ विकल्प पर क्लिक करें।
  • राशन कार्ड नंबर और आधार कार्ड नंबर दर्ज करें।
  • यूजर आईडी और पासवर्ड बनाएं।
  • ईमेल आईडी दर्ज करें।
  • मोबाइल नंबर दर्ज करें।
  • आवेदन जमा करें।
  • फिर आईडी और पासवर्ड का उपयोग करके लॉगिन करें।
  • सभी सदस्यों के आधार नंबर को राशन कार्ड से लिंक करें।
  • अंग्रेजी डेटा प्रविष्टि पर क्लिक करें, फिर अंग्रेजी टाइप करें और विवरण जमा करें।
  • प्रिंट विकल्प पर क्लिक करें।
  • पीवीसी कार्ड चुनें।
  • आपको एक पासवर्ड मिलेगा। पासवर्ड डालें और सबमिट करें।
  • आप स्मार्ट कार्ड देख सकते हैं।
  • आप इसका प्रिंट लेकर लैमिनेट कर सकते हैं।