CBSE 2022 : नए सत्र से मूल्यांकन प्रक्रिया में बदलाव, इस तरह मिलेगा लाभ, 10वीं-12वीं रिजल्ट पर बड़ी अपडेट

योग्यता आधारित शिक्षा के लिए मूल्यांकन को aligned करने के लिए, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE ) ने वर्ष 2022-23 के लिए परीक्षा और मूल्यांकन प्रथाओं में कुछ बदलाव किए हैं।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने 10वीं की बोर्ड परीक्षाएं (board exam) पूरी कर ली हैं और 12वीं की परीक्षाएं भी जल्द खत्म होने की उम्मीद है। CBSE 10वीं की परीक्षा देने के लिए 21 लाख से अधिक छात्रों ने पंजीकरण कराया था, वहीँ लगभग 15 लाख छात्रों ने कक्षा 10 की परीक्षा के लिए नामांकन किया था। ये छात्र दो साल बाद लिखित परीक्षा में शामिल हुए थे। न केवल छात्र बल्कि बोर्ड भी लंबे समय के बाद लिखित परीक्षा की उत्तरपुस्तिकाओं (answer books) की जांच करेगा। बोर्ड पूरी तरह से तैयार है और निष्पक्ष और तेज़ मोड में जाँच सुनिश्चित करने के लिए विशेष प्रावधानों की घोषणा की है।

उत्तरपुस्तिकाओं की जांच के लिए CBSE ने बड़ी संख्या में मूल्यांकन केंद्र स्थापित किए हैं। मूल्यांकन केंद्रों की संख्या पहले की तुलना में बढ़ाई गई है। प्रत्येक दिन चेक की जाने वाली कॉपीयों की संख्या भी बढ़ाई जाएगी। बोर्ड जांच प्रक्रिया में अधिक शिक्षकों को शामिल करने की योजना बना रहा है।

  • निष्पक्षता सुनिश्चित करने के लिए प्रश्नों के सेट रंग कोडित होंगे।
  • प्रत्येक विषय की जांच के लिए दिया गया मूल्यांकन समय सीमित होगा।
  • टर्म 2 CBSE परिणाम न केवल लिखित परीक्षा में प्राप्त अंक होंगे, बल्कि यह अंतिम स्कोर होगा।
  • जिसमें टर्म 1, टर्म 2 स्कोर के साथ-साथ आंतरिक मूल्यांकन भी शामिल होगा।
  • प्रत्येक अनुभाग को दिए गए सटीक वेटेज को बोर्ड द्वारा घोषित नहीं किया गया है।
  • हालांकि, छात्र मांग कर रहे हैं कि कथित धोखाधड़ी के कारण टर्म 1 को कम से कम वेटेज दिया जाना चाहिए।
  • छात्र यह भी मांग कर रहे हैं कि आंतरिक मूल्यांकन में सबसे अधिक वेटेज होना चाहिए। हालांकि, अंतिम निर्णय अभी तक नहीं हुआ है।

Read More : पेंशनर्स के लिए बड़ी खबर, DoPPW ने जारी किया आदेश, फैमिली पेंशन में जून महीने से मिलेगा लाभ

नए सत्र के लिए भी नए नियम तय किये गए हैं

योग्यता आधारित शिक्षा के लिए मूल्यांकन को aligned करने के लिए, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE ) ने वर्ष 2022-23 के लिए परीक्षा और मूल्यांकन प्रथाओं में कुछ बदलाव किए हैं। CBSE ने अपने नवीनतम परिपत्र में स्पष्ट किया है कि अधिक संख्या में योग्यता आधारित प्रश्न या प्रश्न जो वास्तविक जीवन / अपरिचित स्थितियों में अवधारणाओं के अनुप्रयोग का आकलन करते हैं, आगामी सत्रों में प्रश्न पत्र का हिस्सा होंगे।

कक्षा 9 से 12 (2022-23) की आंतरिक वर्ष के अंत/बोर्ड परीक्षा के लिए परिवर्तन इस प्रकार हैं:

  • योग्यता आधारित प्रश्न न्यूनतम 40% होंगे
  • ये बहुविकल्पीय प्रश्न, केस आधारित प्रश्न, स्रोत आधारित एकीकृत प्रश्न या किसी अन्य प्रकार के रूप में हो सकते हैं।
  • ऑब्जेक्टिव टाइप के प्रश्न 20% होंगे
  • शेष 40% लघु उत्तरीय/दीर्घ उत्तरीय प्रश्न (मौजूदा पैटर्न के अनुसार)।
  • आंतरिक मूल्यांकन : कोई परिवर्तन नहीं आंतरिक मूल्यांकन : वर्ष की समाप्ति परीक्षा = 20:80

कक्षा 11-12:

  • योग्यता आधारित प्रश्न न्यूनतम 30% होंगे
  • ये बहुविकल्पीय प्रश्न, केस आधारित प्रश्न, स्रोत आधारित एकीकृत प्रश्न या किसी अन्य प्रकार के रूप में हो सकते हैं।
  • वस्तुनिष्ठ प्रकार के प्रश्न 20% होंगे – शेष 50% लघु उत्तरीय / दीर्घ उत्तरीय प्रश्न (मौजूदा पैटर्न के अनुसार)।

वर्ष की समाप्ति परीक्षा

CBSE सर्कुलर में कहा गया है बोर्ड द्वारा 28 अप्रैल 2022 के सर्कुलर नंबर एकेड -50/2022 और आगामी सैंपल क्वेश्चन पेपर्स के जरिए जारी किए गए करिकुलम डॉक्यूमेंट को अलग-अलग विषयों के क्यूपी डिजाइन में बदलाव के विवरण के लिए संदर्भित किया जा सकता है।