CORONA

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  कोरोना की तीसरी लहर (corona third wave) को लेकर केंद्र सरकार सचेत हो गई है। दरअसल केंद्र सरकार (central government) ने बीते दिनों Corona के नए Delta plus varient को वैरिएंट ऑफ कंसर्न (varient of concern) घोषित कर दिया है। चर्चा है कि सितंबर अक्टूबर में आने वाली तीसरी लहर के लिए डेल्टा प्लस वैरिएंट ही जिम्मेदार होगा।

इधर सरकार द्वारा डेल्टा प्लस वेरिएंट को वेरिएंट ऑफ कंसर्न घोषित कर सभी राज्य से इसके प्रोटोकॉल (protocol) के पालन की बात कही गई है। इस वेरिएंट को लेकर मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग (health department) ने देश के तीन राज्यों को पत्र लिखा है। महाराष्ट्र, केरल, मध्य प्रदेश को लिखे पत्र में स्वास्थ्य विभाग ने कहा है कि डेल्टा वेरिएंट 80 देशों में और Delta Plus वेरिएंट भारत के अलावा 9 देशों तक पहुंच चुका है। अमेरिका ,ब्रिटेन, स्वीटजरलैंड, चीन, नेपाल, रूस और जापान में Delta Plus वैरिएंट के मरीज की पुष्टि हुई है। जिसके बाद विभाग ने इन तीनों राज्यों से इस वेरिएंट के लिए तैयार किए गए गाइडलाइन (guideline) को पालन करने की बात कही है।

Read More: Ujjain Accident: बड़ा हादसा, कांग्रेस विधायक की कार को ट्रक ने मारी टक्कर, मचा हड़कंप

बता दें कि आज भोपाल में नए मरीजों की पुष्टि हुई है। जिसमें Delta Plus वेरिएंट पाए गए हैं। वैसे मरीजों की संख्या बढ़कर 5 हो गई है। राजधानी भोपाल में डेल्टा प्लस वेरिएंट के तीन जबकि उज्जैन में दो मरीज सामने आए हैं। हालांकि इनमें से चार को वैक्सीन लग चुकी है। सीएम शिवराज ने सभी राज्य वासियों को Corona के नए वेरिएंट से सजग रहने की अपील की ।है साथ ही उन्होंने कहा है कि जमकर इस वैरिएंट का मुकाबला करेंगे।

मामले में बीते दिनों मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chauhan) ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कहा था कि Corona के डेल्टा प्लस वेरिएंट के लिए मध्यप्रदेश में अलग से दिशा-निर्देश नहीं तय किए जाएंगे। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी गाइडलाइन का ही पालन प्रदेश में किया जाएगा।

मामले में AIIMS के डायरेक्टर रणदीप गुलेरिया का कहना है कि डेल्टा प्लस वेरिएंट बेहद संक्रामक है और बगैर सुरक्षा कवच संक्रमितों के बगल से गुजरने पर यह उसे भी संक्रमित कर सकता है। वहीं से इस वेरिएंट के इलाज के जवाब में गुलेरिया ने कहा कि अभी इस बात का पता लगाया जा रहा है कि इस वेरिएंट के खिलाफ वैक्सिन कितनी असरदार है।

अब मंगलवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं। वहीं केंद्र सरकार द्वारा इस वेरिएंट के मरीज के लिए आवश्यक दवाई और इंजेक्शन की व्यवस्था भी की जा रही है। बता दें कि बीते दिनों देशभर में 22 डेल्टा प्लस वैरिएंट के मरीजों की पुष्टि हो चुकी है। दूसरी लहर में डेल्टा वैरिएंट ने तबाही मचाई थी। जिसके बाद डेल्टा प्लस उस वैरिएंट के नए स्वरूप के रूप में उभरा है।