IMD Alert : चक्रवात ‘Asani’ से 14 राज्यों में 15 मई तक भारी बारिश का अलर्ट, उत्तर-मध्य के कई क्षेत्रों में लू का अलर्ट

11 मई को उत्तर तटीय आंध्र प्रदेश में हल्की से मध्यम वर्षा की भविष्यवाणी की गई है, अलग-अलग क्षेत्रों में भारी से बहुत भारी वर्षा होगी

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। देशभर के कुछ राज्यों में मौसम (Weather Update) में जहाँ बार बार बदलाव नजर आ रहे हैं। वहीँ दूसरी तरफ IMD Alert ने चक्रवात आसानी (cyclone Asani) से आज पूर्व के 7 राज्यों में गरज़ चमक का अलर्ट जारी किया गया है। दरअसल बिहार झरखंड बंगाल ओडिशा और आंध्र में आज भरी बारिश (rain alert) सहित गरज़ चमक का अलर्ट जारी किया गया है। इधर उत्तर मध्य में तापमान (temperature) में एक बार फिर बढ़ोतरी देखी जा रही है।

इसके अलावा दक्षिणी राज्य केरल कर्नाटक में भी येलो अलर्ट जारी किया गया है। साथ ही तमिलनाडु के चेन्नई में गरज चमक के साथ बारिश की चेतावनी जारी की गई है। वहीं पूर्वी भारत असम, मेघालय, मणिपुर, मिजोरम, सिक्किम, अरुणाचल में भी भारी बारिश का दौर जारी है। इन राज्यों में गरज चमक के साथ बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

इधर आंध्र प्रदेश चक्रवात Asani के लिए तैयार है, इसके बुधवार सुबह आंध्र तट पर पहुंचने की संभावना है। काकीनाडा जिले के कुछ हिस्सों में बारिश हुई और आंध्र प्रदेश के काकीनाडा में समुद्र की स्थिति खराब देखी जा रही है। जबकि आंध्र प्रदेश तट के लिए एक “Red” चेतावनी जारी की गई है और स्थानीय अधिकारियों को चक्रवात से जुड़ी आपदाओं को रोकने के लिए कार्रवाई करने के लिए तैयार रहने के लिए सतर्क किया गया है, चक्रवात ने विभिन्न राज्यों में तापमान को प्रभावित किया है।

IMD Alert की माने तो भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने बताया कि बंगाल की पश्चिम-मध्य खाड़ी के ऊपर भयंकर चक्रवाती तूफान ‘आसानी’ पिछले 6 घंटों के दौरान 12 किमी प्रति घंटे की गति के साथ पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ा, एक चक्रवाती तूफान कमजोर हो गया है।

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने भविष्यवाणी की है कि चक्रवाती तूफान आसनी ने अपनी दिशा बदलने के बाद आंध्र प्रदेश में रेड अलर्ट जारी किया है और अब इसके बुधवार सुबह तक पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी, आंध्र प्रदेश तट के करीब पहुंचने की संभावना है।

Read More : IMD Alert : चक्रवात ‘Asani’ का गंभीर रूप, 17 राज्यों में 13 मई तक भारी बारिश का अलर्ट, उत्तर-मध्य में हीटवेव से मिलेगी राहत

आईएमडी ने जारी किया येलो अलर्ट; 44 डिग्री तक पहुंच सकता है तापमान

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने राजधानी दिल्ली में भीषण गर्मी के लिए येलो अलर्ट की घोषणा की है, बुधवार और गुरुवार तक तापमान 44 डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने की उम्मीद है। मौसम विशेषज्ञों के अनुसार, हीटवेव 15 मई तक रह सकती है, क्योंकि आने वाले सप्ताह में भारत के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्रों में शीतलन प्रणाली के प्रभावित होने की संभावना नहीं है। इसके अलावा मध्य प्रदेश, राजस्थान, गुजरात, छत्तीसगढ़, हरियाणा में तापमान में वृद्धि रिकॉर्ड की जा सकती है।

चक्रवात आसनी के बुधवार सुबह आंध्र तट पर काकीनाडा पहुंचने की संभावना है। उन्होंने कहा कि चक्रवाती तूफान आसनी पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी से उत्तरी आंध्र तट की ओर बढ़ रहा है और अनुमान के मुताबिक बुधवार सुबह चक्रवात के आंध्र तट के काकीनाडा पहुंचने की संभावना है।

इधर आंध्र प्रदेश के काकीनाडा जिले में तेज हवाओं के साथ मध्यम से भारी वर्षा हुई, क्योंकि चक्रवात आसनी ने अपना रास्ता बना लिया। राज्य में समुद्र की खराब स्थिति भी देखी गई। आंध्र प्रदेश तट के लिए रेड वार्निंग जारी की गई थी। इसके साथ ही स्थानीय अधिकारियों को चक्रवात के कारण होने वाली आपदाओं को रोकने के लिए कार्रवाई के लिए तैयार रहने को कहा गया है।

इस बीच, चक्रवात के मद्देनजर चेन्नई में हैदराबाद, विशाखापत्तनम, जयपुर और मुंबई से आने वाली 10 उड़ानें चक्रवात के कारण रद्द कर दी गईं। मौसम अधिकारियों ने भविष्यवाणी की है कि तेलंगाना के दक्षिणी जिलों में हल्की से मध्यम बारिश होने की संभावना है। विभाग ने आगे कहा कि हैदराबाद में अगले 24 घंटों में हल्की बारिश होने की संभावना है और अगले 48 घंटों तक बादल छाए रहेंगे।

Read More : कर्मचारियों के लिए अच्छी खबर, DA वृद्धि को लेकर आदेश जारी, एरियर्स का भी होगा भुगतान, इतनी बढ़ेगी salary

इधर मंगलवार को बादल छाए रहने से गोवा के नागरिकों को असहनीय गर्मी से कुछ राहत मिली है। साथ ही IMD ने 11 मई को छिटपुट स्थानों पर और 13 मई तक गोवा में अलग-अलग स्थानों पर बारिश और गरज के साथ बौछारें पड़ने की संभावना है, साथ ही कभी-कभी लगभग 30 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। भारत के मौसम विभाग (IMD) ने इसके लिए बंगाल की खाड़ी के ऊपर चक्रवात आसनी के बाद के प्रभावों को जिम्मेदार ठहराया है।

इसके कारण, हवाएं निचले स्तर पर पछुआ होती हैं, जिससे गोवा में नमी आ जाती है, इसलिए राज्य के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश हो रही है। ये हवाएं इस समय 20 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से चल रही हैं। हालांकि गोवा पर आसनी का कोई सीधा प्रभाव या गंभीर मौसम प्रभाव नहीं पड़ेगा।

आईएमडी ने कहा कि असानी की मौजूदगी और आवाजाही से गोवा समेत देश के दक्षिण पश्चिमी तट पर हल्की बारिश हो सकती है। मौसम के मिजाज के चलते अधिकतम तापमान में भी गिरावट दर्ज की गई। मंगलवार शाम छह बजे तक पणजी में अधिकतम तापमान 33.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

इसके अलावा से तूफान पश्चिम बंगाल में भी तबाही मचा सकता है। दरअसल कोलकाता नगर निगम द्वारा अग्निशमन विभाग के सभी कर्मचारियों को आपदा प्रबंधन टीम के साथ परिणाम से निपटने के लिए अलर्ट पर रखा गया है। साथ ही दमकल विभाग के सभी कर्मचारियों की छुट्टियां रद्द कर दी गई है। टीमों का गठन किया गया है। बता दें कि उत्तर बंगाल में भारी बारिश की चेतावनी जारी कर दी गई है।

Read More : MP Board : 10वीं के छात्रों के लिए महत्वपूर्ण अपडेट, टाइम टेबल घोषित, दिशा निर्देश जारी

मौसम विभाग की मानें तो बीते 24 घंटे में उत्तर बंगाल में भारी बारिश रिकॉर्ड की जा सकती है। साथ ही गुरुवार से बंगाल के कई क्षेत्रों में बारिश देखने को मिलेगी बंगाल के 5 जिले दार्जिलिंग, जलपाईगुड़ी अलीपुरद्वार,कूचबिहार और कलिंगपोंग में भारी बारिश की चेतावनी जारी कर दी गई है।

पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर चक्रवाती तूफान आसनी पिछले छह घंटों के दौरान 6 किमी प्रति घंटे की गति के साथ उत्तर-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ा, और आंध्र प्रदेश में मछलीपट्टनम से लगभग 50 किमी दक्षिण-दक्षिण पूर्व में बुधवार सुबह 5:30 बजे तक केंद्रित रहा। आईएमडी ने कहा कि काकीनाडा से 150 किमी दक्षिण पश्चिम, विशाखापत्तनम से 290 किमी दक्षिण पश्चिम, ओडिशा के गोपालपुर से 530 किमी दक्षिण पश्चिम और ओडिशा के पुरी ओडिशा से 640 किमी दक्षिण पश्चिम में है।

आईएमडी ने कहा कि चक्रवाती तूफान आसनी के 12 मई की सुबह तक धीरे-धीरे कमजोर पड़ने की संभावना है। यह अगले कुछ घंटों के लिए लगभग उत्तर की ओर बढ़ने की संभावना है और आज दोपहर से शाम के दौरान नरसापुर, यनम, काकीनाडा, तुनी और विशाखापत्तनम तटों के साथ उत्तर-उत्तर-पूर्व की ओर धीरे-धीरे फिर से शुरू हो जाएगा और रात में उत्तर आंध्र प्रदेश के तटों से पश्चिम-मध्य बंगाल की खाड़ी में निकल जाएगा। 12 मई की सुबह तक इसके धीरे-धीरे कमजोर होकर डिप्रेशन में बदलने की संभावना है।

वहीँ भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने सोमवार को अपनी ताजा एडवाइजरी में कहा कि बंगाल की खाड़ी के दक्षिण-पूर्वी हिस्से में बना चक्रवात आसनी एक गंभीर चक्रवात में बदल गया। अगले 24 घंटों में चक्रवाती तूफान के कमजोर होने की भविष्यवाणी की गई है क्योंकि यह आंध्र प्रदेश-ओडिशा तट के पास पहुंच गया है।

इसके लैंडफॉल तक पहुंचने की संभावना नहीं है, हालांकि यह अगले दो दिनों में इन राज्यों के तटीय जिलों से होकर गुजर सकता है। आईएमडी के अनुसार, मंगलवार और बुधवार को तटीय आंध्र प्रदेश और ओडिशा में भारी बारिश की संभावना है। बंगाल की खाड़ी के तूफान के कारण 12 मई तक बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल और सिक्किम में गरज के साथ बौछारें, बिजली गिरने और हल्की बारिश की संभावना है।

पश्चिम बंगाल में आपदा प्रबंधन टीमों, पुलिस और केएमसी कर्मियों को सतर्क रहने का निर्देश दिया गया है. सामरिक स्थलों पर नौकाओं को तैनात किया गया है। एसडीआरएफ और एनडीआरएफ, साथ ही तटरक्षक बल और नौसेना को सूचित कर दिया गया है।

चक्रवात आसनी के कारण ओडिशा और आंध्र प्रदेश में भारी वर्षा होने शुरू हो गई है। 11 मई से, आंध्र प्रदेश के तटीय क्षेत्रों में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा के साथ हल्की से मध्यम वर्षा होने का अनुमान है और तटीय ओडिशा में अलग-अलग हिस्सों में भारी वर्षा का अनुमान है।

11 मई को उत्तर तटीय आंध्र प्रदेश में हल्की से मध्यम वर्षा की भविष्यवाणी की गई है, अलग-अलग क्षेत्रों में भारी से बहुत भारी वर्षा होगी, जबकि ओडिशा के तटीय क्षेत्रों और पश्चिम बंगाल के तटीय क्षेत्रों में भारी वर्षा होने की संभावना है। 12 मई को ओडिशा और पश्चिम बंगाल के तटीय भागों में, कुछ स्थानों पर हल्की से मध्यम वर्षा की संभावना है, अलग-अलग स्थानों पर गंभीर वर्षा होगी।