Maharashtra Political Crisis : बागी विधायकों ने बिगाड़ा खेल, त्यागपत्र देने को तैयार उद्धव, लगाई यह शर्त…

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि जब मेरे शिवसेना के विधायक ही नहीं चाहते कि मै मुख्यमंत्री रहू तो फिर क्या फायदा।

मुंबई, डेस्क रिपोर्ट। बड़े घटना क्रम में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (CM Uddhav thackeray) इस्तीफा (resign) देने के लिए तैयार है। हालांकि उद्धव ठाकरे ने एक शर्त रख दी है। महाराष्ट्र (Maharashtra) की जनता को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि यदि किसी को मेरा इस्तीफा चाहिए तो वह मेरे सामने आकर मेरा इस्तीफा मांग ले, मैंने इस्तीफा तैयार रखा है तुरंत अपने पद से इस्तीफा दे दूंगा। इतना ही नहीं ठाकरे ने कहा कि मेरे बाद यदि कोई भी शिव सैनिक सीएम बनता है तो मुझे बेहद खुशी होगी। संकोच है तो फोन पर बात करे।

फेसबुक लाइव (Facebook Live) पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि संबोधन जनता की मदद से मुझे मुख्यमंत्री बनाया गया। कोरोना काल मे जनता की जमकर सेवा की। देश के सर्वश्रेष्ठ 5 मुख्यमंत्रियों में शामिल रहा। बाला साहब (Bala saheb) की शिवसेना और आज की शिवसेना में क्या अंतर है। यह बाला साहब ठाकरे की ही शिवसेना है। शिव सेना हिंदुत्व से अलग हो ही नहीं सकती। शिवसेना और हिंदुत्व एक दूसरे के पूरक। इस बारे में विधानसभा में भी बात की थी।

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि जब मेरे शिवसेना के विधायक (Shivsena MLA) ही नहीं चाहते कि मै मुख्यमंत्री रहू तो फिर क्या फायदा। कांग्रेस और एनसीपी कहे कि मुख्यमंत्री रहो पर शिवसेना के लोग कहे कि नही रहो तो मै तत्काल पद छोङ दूगा। इनमें से एक भी विधायक आकर कह दे कि मुझे मुख्यमंत्री के रूप में उद्धव ठाकरे नहीं चाहिए तो मैं उसी पद त्यागपत्र दे दूंगा।शिवसैनिक मेरे साथ गद्दारी न करे। उद्धव ठाकरे ने कहा कि मेरा इस्तीफा तैयार,शिवसेना विधायक मेरे सामने आकर मागे। मेरे बाद कोई शिवसैनिक सीएम (Shiv Sainik CM) बने तो मुझे खुशी होगी।

इससे पहले महा विकास अघाड़ी सरकार के लिए एक बिगड़ते राजनीतिक संकट के बीच महाराष्ट्र कैबिनेट की बैठक मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के साथ कोरोना पॉजिटिव हने के बाद के बाद वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शामिल होने के साथ संपन्न हुई। बैठक के दौरान कैबिनेट के एजेंडे पर चर्चा हुई लेकिन राज्य में उपजे राजनीतिक संकट को इसमें शामिल नहीं किया गया।

Read More : Ranji Trophy: पहले दिन का खेल खत्म, यशस्वी ने खेली अर्धशतकीय पारी, जाने पूरा अपडेट

वही शिवसेना के बागी विधायक एकनाथ शिंदे आज शाम 7:00 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सकते हैं। आ रही जानकारी के मुताबिक शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे शाम 7 बजे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित कर सकते हैं। 34 बागी शिवसेना विधायक ने एकनाथ शिंदे को शिवसेना विधायक दल का नेता नियुक्त करने का प्रस्ताव पारित किया है।

इससे पहले शिवसेना प्रमुख को उन विधायकों से मिलना होगा, जो अभी भी पार्टी में हैं और आगे की कार्रवाई पर चर्चा करेंगे। इस बीच, शिवसेना के लगभग 4 और विधायक एकनाथ शिंदे विद्रोही समूह में शामिल होने की राह पर हैं। एक बार जब वे Shinde group में शामिल हो जाते हैं, तो शिंदे के साथ शिवसेना के विधायकों की संख्या 38 तक पहुंच जाएगी, जिसका मतलब यह होगा कि दल-बदल विरोधी कानून समूह पर लागू नहीं होगा।

महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले का कहना है कि सीएम उद्धव ठाकरे ने स्पष्ट कर दिया है कि राज्य विधानसभा को भंग करने की सिफारिश करने का कोई प्रस्ताव नहीं है। इससे पहले शिवसेना के बागी विधायक एकनाथ शिंदे ने कहा कि उनके पास 46 विधायक हैं, जिनमें 6-7 निर्दलीय विधायक हैं। शिंदे ने समाचार एजेंसी से चर्चा में बताया आने वाले समय में यह संख्या बढ़ेगी। अभी तक हमें न तो भाजपा से कोई प्रस्ताव मिला है और न ही हम उनसे कोई बातचीत कर रहे हैं।

शिंदे ने कहा कि बागी विधायकों का समूह शिवसेना या सीएम उद्धव ठाकरे के साथ कोई बातचीत नहीं कर रहा है। एक मराठी समाचार चैनल से बात करते हुए, शिंदे ने कहा कि गुवाहाटी में विधायकों के साथ शाम को बैठक के बाद उनकी भविष्य की कार्रवाई का फैसला किया जाएगा। उन्होंने कहा कि उनके पास पर्याप्त संख्या है और यह ठाकरे को तय करना है कि वह राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में इस्तीफा देना चाहते हैं या नहीं।