MP News: विधायकों को लेकर इस बड़ी तैयारी में CM Shivraj, आम जनता को मिलेगा लाभ

MP CORONA

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (MP) में विधायकों (MLAs) को लेकर शिवराज सरकार (Shivraj government) नई व्यवस्था की तैयारी में है। दरअसल सरकार हर विधायकों के विधानसभा क्षेत्र के लिए एक डैशबोर्ड (Dashboard) तैयार किया जाएगा। वहां की जनता की समस्याओं, शिकायतों की समीक्षा करने के बाद उसका समाधान किया जाएगा। वही विधायकों के विधानसभा क्षेत्र के डैशबोर्ड सीधे मुख्यमंत्री (chief minister) के डैशबोर्ड से कनेक्ट किए जाएंगे। जिससे विधायकों के विधानसभा क्षेत्र से जुड़े मुद्दे की मॉनिटरिंग अब सीधे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के हाथों होगी।

इतना ही नहीं सीएम शिवराज (CM Shivraj) अब विधायकों के कामकाज पर भी नजर रखेंगे। साथ ही विधायकों के कार्य करने की प्रणाली को लेकर उनसे चर्चा भी करेंगे।इसके अलावा सीएम हेल्पलाइन (CM Helpline) सेवा में बड़ा बदलाव किया जाएगा। सीएम हेल्पलाइन बदलाव को लेकर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (shivraj singh chouhan)  ने बड़ा ऐलान किया है। इसमें कई नई सुविधाओं को जोड़ा जाएगा। साथ ही सीएम हेल्पलाइन नंबर में व्हाट्सएप चैट बोर्ड (whatsapp chat box) की भी सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी।

Read More: Transfer : MP में फिर हुए IAS अधिकारियों के तबादले, यहाँ देखें लिस्ट

सीएम हेल्पलाइन में विधायकों के डैशबोर्ड बनाने के साथ-साथ विधानसभा क्षेत्र से जुड़ी शिकायतों के समाधान की जानकारी सीधे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तक पहुंचेगी। जहां मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इसकी मॉनिटरिंग 9monitoring)  करेंगे। इसके अलावा विभागों की जिम्मेदारी तय की जाएगी ताकि काफी दिनों तक शिकायतों की फाइल को पेंडिंग में रखा जाए। वहीं यदि कोई अधिकारी कर्मचारी की लापरवाही करते देखा जाता है तो उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

जिसका फायदा आम नागरिक को मिलेगा दरअसल आम नागरिक व्हाट्सएप के जरिए भी अपनी शिकायतों का समाधान पा सकेंगे। इसके अलावा सीएम हेल्पलाइन नंबर में लोक सेवा गारंटी अधिनियम के तहत 44 विभाग को जोड़ा जाएगा। इन 44 विभाग में संचालित होने वाली 560 सेवाओं को लेकर सीएम हेल्पलाइन में जोड़ा जाएगा जैसे लोगों को आसानी से इसका फायदा मिल सके।

इसके अलावा सीएम हेल्पलाइन पर मिलने वाली शिकायत के समाधान और उनसे जुड़े दस्तावेज अब सीधे घर तक पहुंचाने की तैयारी है। इसके लिए सरकार बड़ी तैयारी कर रही है। इसके लिए 4 जिलों को चुना गया है। पहले चरण में 4 जिले भोपाल, ग्वालियर, इंदौर और जबलपुर होंगे।