MP News: एक बार फिर BJP दिग्गजों की बैठकों का दौर शुरू, Vishnoi के घर सियासी चर्चा के क्या हैं मायने

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश राजनीति (MP Politics) में एक बार फिर से BJP के दिग्गज नेताओं की बैठकों का दौर शुरू हो गया है। हालांकि इन बैठकों को आगामी उपचुनाव (upcoming election) सहित कई अन्य मुद्दों से जोड़कर देखा जा रहा है। बीते दिनों कई मंत्री पद के दावेदार सीनियर विधायकों (senior MLAs) की बैठक बीजेपी दिग्गज अजय विश्नोई (ajay vishnoi) के बंगले पर हुई। इस दौरान सभी विधायकों (MLa) ने बंद कमरे में लंबी चर्चा की।

Read More: MP के इन अधिकारी-कर्मचारियों को जल्द मिलेगी बड़ी सौगात! राज्य शासन को भेजा गया प्रस्ताव

दरअसल मध्यप्रदेश में एक बार फिर से मंत्रिमंडल विस्तार (MP Cabinet expansion) को लेकर सुगबुगाहट तेज हो गई। हालांकि अभी तक इस मामले में कोई आधिकारिक बयान सामने नहीं आया है। बावजूद इसके BJP के दिग्गज नेताओं के एक दूसरों से मुलाकात कई मायनों में प्रदेश की सियासत में हलचल मचाने के लिए काफी है।गुरुवार को अजय विश्नोई के निवास स्थान पर गौरीशंकर बिसेन (gaurishanker vishen) , केदार शुक्ला (kedarnath shukla), नागेंद्र सिंह, यशपाल सिंह सिसोदिया सहित राजेंद्र शुक्ला पहुंचे थे। इस दौरान सभी विधायकों के बीच काफी देर तक बंद कमरे में चर्चा हुई।

चर्चाओं की माने तो यह सभी बिग्गाजी और वरिष्ठ बीजेपी नेता मंत्री पद के दावेदार हैं। अब ऐसी स्थिति में अजय विश्नोई के घर अचानक से दिग्गज नेताओं की बैठक से एक बार फिर से सियासी पारा चढ़ गया है। गौर करने वाली बात यह रही कि इस बैठक में पूर्व मंत्री दीपक जोशी (Deepak joshi)  भी शामिल हुए थे।

Read More: कर्मचारियों को बड़ा तोहफा, DA में वृद्धि, अगस्त से बढ़कर आएगी सैलरी

ज्ञात हो कि मध्य प्रदेश सरकार में अभी कुल 31 मंत्री हैं जबकि मंत्री के 4 पद खाली हैं। ऐसे में कैबिनेट विस्तार को लेकर अटकलें जारी है। एक तरफ जहां 4 मंत्री पद के रिक्त पद हैं। वही दावेदारों की लंबी लाइन भी शिवराज सरकार के सामने हैं। इधर बैठक में शामिल होने पहुंचे विधायक यशपाल सिंह सिसोदिया से जब इस बैठक के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि यह सामान्य बैठक है।

जिसमें विधायकों के बीच कई विशेष मुद्दे पर चर्चा की गई है। वहीं यशपाल सिंह सिसोदिया ने मंत्री बनाए जाने के सवाल पर कहां है कि किसी को मंत्री बनाना मुख्यमंत्री के अधिकार क्षेत्र में है जबकि कैबिनेट में यह चार जगह रिक्त है। ऐसी स्थिति में सभी विधायक मंत्री बनने के पात्र हैं। इस पर फैसला हाईकमान और मुख्यमंत्री ही लेंगे।