MP School : शिक्षकों की पदस्थापना पर बड़ी अपडेट, DPI ने जारी किया आदेश, नहीं किया जाएगा कार्यमुक्त

विभाग द्वारा 274 चयनित स्कूलों के लिए ₹34 करोड़ का बजट पेश किया गया है। 

सांकेतिक तस्वीर

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट ग्रीष्मकालीन छुट्टियों के बाद आखिर  मध्य प्रदेश के स्कूलों (MP School) को 13 जून से खोला दिया जाएगा। CM Rise School 13 जून से खोले जाने से पहले ही शिक्षकों की पदस्थापना की प्रक्रिया (teacher recruitment process) को लेकर अभी भी कई तरह की परेशानी देखने को मिल रही है। वहीं डीपीआई (DPI) द्वारा नवीन आदेश जारी कर दिया है। जिसका सीधा असर 200 शिक्षकों की पदस्थापना पर होगा।

दरअसल लोक शिक्षण संचालनालय द्वारा आदेश जारी करते हुए कहा गया है कि 4322 शिक्षकों को आदेश जारी करते हुए 1 जून तक पदस्थापना के आदेश जारी किए गए थे। जिसमें से 3620 शिक्षकों ने कार्यभार ग्रहण किया है। वही 84 फिर से शिक्षक द्वारा CM Rise School के कार्य भार को ग्रहण किए जाने के बाद 200 शिक्षकों द्वारा पदस्थापना आदेश के खिलाफ आवेदन कर दिए गए हैं।

मामले में DPI अपर संचालक डीएस कुशवाहा का कहना है कि जिन शिक्षकों को CM Rise School में 1 जून तक ज्वाइन करना था। ऐसे करीब 16 फीसद शिक्षक ने अभी तक ज्वाइन नहीं की है। जिसके बाद उनके आवेदन डीपीआई में रखे हुए हैं। ऐसी स्थिति में ऐसे शिक्षकों को पुराने स्कूलों से कार्यमुक्त नहीं किया जाएगा और जिन्हें कर दिया गया। उन्हें पुनः पुराने स्कूल नहीं पदस्थापना दी जाएगी।

Read More : हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, उच्च अधिकारी से पहले करें कर्मचारियों के वेतन का भुगतान, आदेश जारी

वही जिन स्कूलों में उन्होंने आवेदन किए थे उन्हें स्कूल में उनकी पदस्थापना नहीं दी गई है। जिसके बाद डीपीआई ने डीईओ को आदेश जारी करते हुए नवीन निर्देश दिए हैं। निर्देश के मुताबिक शिक्षकों के आवेदन लंबित हैं उन्हें वर्तमान स्कूल से कार्यमुक्त न किया जाए। डीईओ को निर्देश देते हुए लोक शिक्षण संचालनालय द्वारा कहा गया है कि यदि किसी को कार्य मुक्त कर दिया गया है। उसके द्वारा नवीन पदस्थापना स्थल पर कार्यभार ग्रहण न किया हो तो उसे पूर्व स्थल पर आगामी आदेश तक के लिए पुनः पदस्थापना दी जाए।

ऐसे में 200 शिक्षकों को पुराने स्कूलों में ही रखा जाएगा उन्हें कार्यमुक्त नहीं किया जाएगा। बता दें कि नए शैक्षणिक सत्र की शुरुआत 13 जून से की जा रही है। इसके लिए सारी तैयारियां भी पूरी कर ली गई है। विभाग द्वारा 274 चयनित स्कूलों के लिए ₹34 करोड़ का बजट पेश किया गया है।