MP School: बच्चों के लिए सरकार का बड़ा फैसला, अगले साल तक स्कूलों में उपलब्ध होगी ये व्यवस्था

वही शासकीय स्कूल प्रबंधन समिति को इस राशि का इस्तेमाल कर स्व सहायता समूह (self help group) की मदद से इसे तैयार करना है।

school

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्य प्रदेश (madhya pradesh) में शिवराज सरकार (shivraj government) MP School स्कूली बच्चे को बड़ा तोहफा देने जा रही है। दरअसल प्राथमिक और माध्यमिक शालाओं को पौष्टिकता (nutritional) के लिए अनुदान (Grant) किया गया है। जिससे विद्यार्थियों को मध्याहन भोजन के लिए जागरूक बनाने के लिए अब विभाग मां की बगिया तैयार करवा रहा है। इस बगिया का काम प्राथमिक और माध्यमिक शाला में मध्याहन भोजन के अंतर्गत बच्चों के पोषण सुधार के लिए स्कूल न्यूट्रिशन गाइड (Nutrition Guide) बनाए जाने का होगा।

दरअसल प्रदेश भर के शासकीय स्कूलों (government schools) में करोड़ों रुपए का अनुदान दिया गया है। इस अनुदान से प्राथमिक और माध्यमिक शालाओं में मां की बगिया तैयार की जाएगी। मां की बगिया का काम MP School के बच्चों के पोषण सुधार के लिए स्कूल न्यूट्रिशन गाइड (nutrition guide) बनाए जाने का होगा। इसके लिए राज्य की तरफ से राशि प्रदान कर दी गई है। वहीँ अगले साल तक स्कूलों में ये व्यवस्था शुरू हो जाएगी।

Read More: आज Indore आएंगे सीएम शिवराज, जाने क्यों कहेंगे “धन्यवाद इंदौर”!

वही शासकीय स्कूल प्रबंधन समिति को इस राशि का इस्तेमाल कर स्व सहायता समूह (self help group) की मदद से मां की बगिया तैयार करना है। इसमें पोषक तत्व वाले फलदार पौधे और औषधीय पौधे लगाए जाएंगे। इसके अलावा बच्चों को उनकी खासियत समझा कर उनका अधिक उपयोग करने की सलाह दी जाएगी।

बता दे की मां की बगिया एक किचन गार्डन है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इसी साल जनवरी महीने में सभी MP School शासकीय स्कूलों के लिए मां की बगिया यानी किचन गार्डन खोले जाने का निर्णय लिया था। वही मां की बगिया में पोशक वाटिका लगाए जाएंगे। इसके अलावा बच्चों को स्वस्थ और पौष्टिक खाना खाने की सलाह दी जाएगी। इसके लिए उन बगिया में ताजी सब्जियां उगाई जाएगी। जिसमें कई पोषक तत्वों का खजाना है। उन्हें पोषक तत्वों को सही से खाने में शामिल करना सिखाया जाएगा। इस मामले में शासकीय स्कूल प्रबंधन का कहना है कि पोषण वाटिका बनाने का उद्देश्य बच्चों को ताजी और अच्छी सब्जियां मध्याह्न भोजन के लिए मिल सके। इसका उपाय करना है।