नीति आयोग ने जारी की Health Index 2021 लिस्ट, MP में मामूली सुधार, ये राज्य शीर्ष पर कायम

जारी लिस्ट में समग्र स्वास्थ्य प्रदर्शन केरल (kerala) शीर्ष पर अपनी जगह बनाने में सफल रहा है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। कोरना (Corona) के बढ़ते Case को देते हुए देश भर में राज्यों द्वारा स्वास्थ्य सुरक्षा (Health protecton) को सुदृढ़ किया जा रहा है। सभी राज्य अपने अपने स्तर पर राज्य में बेहतर स्वास्थ्य सेवाओं का प्रदर्शन करने का दावा कर रहे हैं। वही नीति आयोग (NITI Aayog) ने चौथे हेल्थ इंडेक्स की (Health Index 2021) लिस्ट की घोषणा की है। जारी लिस्ट में समग्र स्वास्थ्य प्रदर्शन केरल (kerala) शीर्ष पर अपनी जगह बनाने में सफल रहा है। हालांकि यदि मध्य प्रदेश (MP) की बात की जाए तो नीति आयोग के मुताबिक बिहार, UP और मध्य प्रदेश में मामूली बेहतर प्रदर्शन दर्ज किया है।

दरअसल केरल लगातार 4 साल से शीर्ष पर अपनी जगह बनाने में सफल रहा है। केरल स्वास्थ्य में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले राज्य में अपनी जगह मजबूत की है। इसके अलावा तमिलनाडु और तेलंगाना भी स्वास्थ्य व्यवस्था में अच्छा प्रदर्शन करने वाले राज्य में शामिल हुए हैं। इसके अलावा महाराष्ट्र में भी स्वास्थ्य व्यवस्था में सुधार देखने को मिली है।

इसी श्रेणी में अगर सबसे खराब प्रदर्शन करने वाले राज्यों का उल्लेख किया जाए तो इसमें सबसे प्रथम उत्तर प्रदेश शामिल है। बिहार और मध्य प्रदेश ने भी मामूली बेहतर प्रदर्शन के आधार पर नीति आयोग की रिपोर्ट में अपनी जगह दर्ज की है। हालांकि नीति आयोग की रिपोर्ट के मुताबिक उत्तर प्रदेश ने 2018 19 के मुकाबले 2019-20 में काफी सुधार किया है।

Read More : MP Government Jobs : इन पदों पर होगी भर्ती, 30 जनवरी तक कर सकेंगे आवेदन, जाने नियम और पात्रता

जिससे स्वास्थ सेवाओं के सुधार के मामले में उत्तर प्रदेश ने मामूली बढ़त हासिल की है। राजस्थान Overall परफॉर्मेंस के मामले में सबसे कमजोर प्रदर्शक राज्यों में आंका गया है। हालांकि पूर्वी राज्य में मिजोरम त्रिपुरा ने स्वास्थ्य सुधार मामले में अच्छा प्रदर्शन किया है और इन मामलों में स्वास्थ्य व्यवस्था की स्थिति मजबूत हुई है।

गोवा ने आठ छोटे राज्यों में वृद्धिशील स्वास्थ्य प्रदर्शन में सबसे खराब गिरावट दर्ज की। केंद्र शासित प्रदेशों में, दिल्ली और जम्मू और कश्मीर ने समग्र प्रदर्शन श्रेणी में अंतिम स्थान हासिल किया है। असम, उत्तर प्रदेश, मेघालय, दिल्ली, जम्मू और कश्मीर और लक्षद्वीप ने सबसे बड़ी वृद्धि (चार अंक से अधिक) दर्ज की, लेकिन फिर भी समग्र प्रदर्शन के मामले में आकांक्षी श्रेणी के अंतर्गत आते हैं।

वहीं केंद्र शासित राज्य में दिल्ली और जम्मू-कश्मीर स्वास्थ्य व्यवस्था को बनाए रखने में असफल घोषित किया गया है। दिल्ली और जम्मू-कश्मीर मैं समग्र स्वास्थ्य प्रदर्शन के मामले में इनकी जगह काफी नीचे दर्ज की गई। हालांकि यदि स्वास्थ्य व्यवस्था के सुधार के मामले में देखा जाए तो इन दोनों राज्यों का स्थान वृद्धि के साथ दर्ज कराया गया है।