पंचायत चुनाव

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में नगर निकाय चुनाव (urban body election)  सहित पंचायत चुनाव (panchayat election) होने हैं। पंचायत चुनाव को लेकर हालांकि अभी तक आधिकारिक घोषणा सामने नहीं आई है लेकिन मध्य प्रदेश राज्य चुनाव आयोग (Madhya Pradesh State Election Commission) ने पंचायत चुनाव से पहले उम्मीदवारों की सूची सहित अन्य दस्तावेजों को लेकर बड़े निर्देश दिए हैं।

दरअसल राज्य सूचना आयुक्त राहुल सिंह ने आगामी पंचायत चुनाव को देखते हुए पंचायत चुनाव से पहले सभी उम्मीदवारों की सूची, शपथ पत्र, जीतने के बाद पंचायत प्रतिनिधियों की जानकारी वेबसाइट (website) पर अपलोड करने के निर्देश दिए हैं। इस मामले में राज्य सूचना आयुक्त राहुल सिंह (State Information Commissioner Rahul Singh) का कहना है कि जब छोटे राज्य उड़ीसा, बिहार, झारखंड में भी जानकारी राज्य चुनाव आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध कराई जा रही है तो मध्य प्रदेश चुनाव आयोग ऐसा क्यों नहीं करते हैं।

इतना ही नहीं राहुल सिंह ने यह भी कहा कि पंचायत प्रतिनिधियों के बारे में जानकारी लेना लोगों का संवैधानिक अधिकार है। जिसके लिए आरटीआई लगाने की जरूरत नहीं है। इसलिए पंचायत चुनाव से पहले सभी उम्मीदवारों की सूची सहित शपथ पत्र और जीतने के बाद पंचायत प्रतिनिधि की जानकारी वेबसाइट पर अपलोड करनी होगी। सिंह ने कहा कि संक्रमण काल के समय पंचायत चुनाव के दौरान रिटर्निंग ऑफिसर के दफ्तर में सूचना के लिए भीड़ लगना उचित नहीं है। इस मामले में यदि पब्लिक प्लेटफॉर्म पर सार्वजनिक तौर पर जानकारी उपलब्ध होगी तो इससे बड़ी सफलता मिलेगी।

Read More: कुपोषित बच्चे मामले में सख्त Highcourt, शिवराज सरकार को जारी किया नोटिस, माँगा जवाब

मध्य प्रदेश चुनाव आयोग राजपत्र में हर पंचायत चुनाव में निर्देश जारी करता है। जिसके मुताबिक उम्मीदवारों की जानकारी, शपथ पत्र, क्रिमिनल रिकॉर्ड से शैक्षणिक योग्यता और इस तरह की जानकारी वेबसाइट पर उपलब्ध करानी होगी। वहीं अब तक मध्य प्रदेश चुनाव आयोग के इस निर्देश का पालन नहीं किया गया है। प्रदेश में पंचायत के चुनाव होने हैं। जहां प्रदेश के कुल 407 नगर निकाय में से 307 का कार्यकाल 25 सितंबर 2020 को समाप्त हो चुका है। जबकि आठ नगर निकाय का कार्यकाल जनवरी और फरवरी 2021 में पूरा हो चुका है। इसके अलावा 3 स्तरीय पंचायत में पंच सरपंच जनपद सदस्य का कार्यकाल भी मार्च 2021 में समाप्त हो चुके हों। जबकि 29 नगर परिषदों में चुनाव होना भी बाकी है।

वही पंचायत चुनाव को लेकर बीते दिनों मंत्री महेंद्र सिंह सिसोदिया ने कहा था कि प्रदेश में पंचायत चुनाव कब होंगे। यह कोरोना संक्रमण की हालात पर निर्भर करेगा। अभी कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करना और तीसरे से बचाव करने के उपाय ढूंढने ज्यादा आवश्यक है। यदि सरकार इसमें सफल रही तो जल्द पंचायत चुनाव पर कोई फैसला लिया जाएगा।