Scindia के बयान से सियासी हलचल तेज, कांग्रेस के लिए चुनौती बने ज्योतिरादित्य के सख्त तेवर!

वहीं कांग्रेस (congress) के खिलाफ उनके जवाबी हमले कांग्रेस के लिए निश्चित ही चिंता का विषय होंगे।

jyotiraditya scindia

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। केंद्रीय नेतृत्व में जगह मिलने के बाद मध्य प्रदेश के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया (jyotiraditya scindia)  का कद बढ़ने लगा है। राजधानी भोपाल (bhopal) में कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण देने शामिल हुए ज्योतिरादित्य सिंधिया के तेवर बहुत कुछ इशारा कर रहे हैं। दरअसल बीते दिनों केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण देने के लिए ई-चिंतन शिविर में शामिल हुए थे।

इस दौरान केंद्रीय उड्डयन मंत्री (Union Aviation Minister) ज्योतिरादित्य सिंधिया ने बड़ी बात कहकर सियासी गलियारों में हलचल मचा दी है। दरअसल ई-चिंतन शिविर में ज्योतिरादित्य सिंधिया (scindia) ने कार्यकर्ताओं का हौसला अफजाई करते हुए कहा कि हम विरोधी से ना आंख झुका कर बात करेंगे, ना आंख उठाकर। हम उन से आंख मिलाकर बात करेंगे।

इस दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कार्यकर्ताओं को विदेश नीति पर भी संबोधित किया। विदेश नीति पर बोलते हुए ई-चिंतनशिविर के दौरान ज्योतिरादित्य सिंधिया से पहले विदेश मंत्री एस जयशंकर भी संबोधन दे चुके हैं। इस दौरान सभी राज्यों के मुख्यमंत्री को इसमें शामिल किया गया था। इससे पहले BJP के प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा (VD Sharma) ने भी 2 दिन पहले इसी विषय पर प्रदेश पदाधिकारी को संबोधित करने का काम किया था।

Read More: Bhopal Road Accident: तेज रफ्तार ट्रक ने कार को मारी भीषण टक्कर, उड़े परखच्चे, 4 की मौत

अब एक बार फिर से केंद्रीय मंत्री Scindia को जिला के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं को विदेश नीति समझाने के लिए शिविर का आयोजन किया गया था। ज्ञात हो कि BJP केंद्र सरकार की उपलब्धियों को गिनाने और इसे जनता के बीच में लेकर जाने के लिए एक नया फार्मूला (new formulae) तैयार कर रही है इसके तहत जमीनी स्तर पर कार्यकर्ता जनता को केंद्र सरकार की उपलब्धियों के बारे में बताएंगे। इसके लिए कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षित करने का कार्य किया जा रहा है। इस दौरान मोदी सरकार (modi government) द्वारा विदेशों में बनाए अपने रिश्ते और विदेश नीति के लिए कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण देने का कार्य ज्योतिरादित्य सिंधिया को सौंपा गया था।

केंद्रीय नेतृत्व में जगह मिलने के बाद Scindia का यह तेवर BJP के साथ-साथ विपक्षी पार्टियों के लिए भी आश्चर्य का विषय बन चुका है। सिंधिया लगातार सख्त तेवर में नजर आ रहे हैं। वहीं कांग्रेस (congress) के खिलाफ उनके जवाबी हमले कांग्रेस के लिए निश्चित ही चिंता का विषय होंगे।

मध्य प्रदेश में आगामी दिनों में उपचुनाव (upcoming by-election) होने हैं। इसको देखते हुए एक तरफ जहां कांग्रेस सिंधिया के इस सख्त रुख के लिए कोई Formulae तैयार करने की तैयारी में होगी। वही BJP की तरफ से सिंधिया का यह सख्त रूख उनके लिए काफी फायदेमंद माना जा रहा है।